योनि आसन करने का सही तरीका और लाभ

योनि आसन की विधि | Yoni Asana Steps

Yoni Asana Steps

दोनों पैरों को सामने की ओर फैलाकर बैठ जाइये। फिर दोनों घुटनों को मोड़कर, दोनों पैरों के तलुवे और एड़ियों को इस प्रकार जोड़ लें कि नाभि एड़ियों के ऊपर रहे-और पंजों से अन्दर की ओर थोड़ा दबाव रहना चाहिये।

पंजे अण्डकोषों से सटे होने चाहियें।

तत्पश्चातू दोनों हाथ घुटनों पर रखें। कमर का ऊपरी भाग एकदम सीधा तना हुआ रहना चाहिये। पांवों को जोड़कर भी इसका अभ्यास किया जा सकता है।

और ये भी पढ़े:- वीरासन की विधि और लाभ

योनि आसन के लाभ | Yoni Asana Benefits

इस आसन के अभ्यास से योनि-सम्बन्धी सभी विकार नष्ट होते हैं और मूत्र-सम्बन्धी सभी दोषों को दूर करता है तथा जांघों से लेकर पंजों तक के भागों को पुष्ट करता है। यह आसन स्त्रियों के लिये बड़ा लाभदायक है।

और ये भी पढ़े

पादांगुष्ठासन की विधि, लाभ और सावधानी | Padangusthasana

हस्त कटिपादासन | hast katipadasana

Add Comment