वक्रासन करने का सही तरीका और लाभ

वक्रासन योग एक अद्भुत योग पोज है। वक्रासन दो शब्दों से मिलकर बना है, वक्र का अर्थ है “टेढ़ा” और आसन का अर्थ है “योग”। जब आप वक्रासन की विधि का अभ्यास करते हैं, तो आपकी रीढ़ टेढ़ी या मुड़ी हुई होती है इसलिए इसे आसन स्पाइनल ट्विस्ट पोज और हाफ स्पाइनल ट्विस्ट पोज के रूप में जाना जाता है।

वक्रासन एक सरल योग आसन है, लेकिन फिर भी, यह आसन आपको पेट के निचले हिस्से की मांसपेशियों में खिंचाव में मदद करता है, और वक्रासन शरीर के अंगों जैसे जिगर, आंत, वृषण, गुर्दे, अंडाशय, अग्न्याशय और पेट को लाभ पहुंचाता है ।

वक्रासन उन लोगों को लाभ पहुंचाता है जो मधुमेह से पीड़ित हैं, और यदि आप प्रतिदिन नियमित रूप से वक्रासन का अभ्यास करते हैं, तो इससे आपको पेट की चर्बी को खत्म करने में मदद मिलेगी।

और ये भी पढ़े:- पादहस्तासन योग की विधि और लाभ

वक्रासन की विधि | Vakrasana Steps in Hindi

Vakrasana steps in hindi

सबसे पहले, एक आसन पर बैठें और अपने पैरों को फैलाएं।

अपने बाएं पैर को घुटनों से मोड़े और फिर अपने पैर को दाहिने घुटने के पास रखें।

साँस छोड़ें और फिर आप अपनी कमर को बाईं ओर मोड़ें और ध्यान रहे की आपकी रीढ़ सीधी रहे।

फिर, अपने दाये हाथ को बाईं ओर के पैर की ओर रखे, और आपको इसे इस तरह रखे की दाहिने हाथ की बाहरी तरफ बाएं पैर के बाहरी हिस्से को छूए।

अपने बाये हाथ को पीछे ले जाएं और अपनी हथेली को फर्श पर रखे।

फिर, आपको दूसरी तरफ भी ऐसा करने की आवश्यकता है। आप दो से तीन बार वक्रासन का अभ्यास कर सकते हैं।

“वक्रासन विधि” का अभ्यास करते समय आपको शरीर को घुमाते समय साँस छोड़ना चाहिए। जल्दी जल्दी में साँस न लें, शांति से और धीरे-धीरे साँस लेने की कोशिश करें, और अंतिम अवस्था में मुद्रा बनाए रखने की कोशिश करें। और जब आप प्रारंभिक स्थिति में लौट रहे हों तब श्वास लें।

और ये भी पढ़े:- पर्यंकासन की विधि और लाभ

वक्रासन के लाभ | Vakrasana Benefits in Hindi

  1. रीढ़ की हड्डी के लिए:- वक्रासन योग आपकी रीढ़ और पीठ की नसों के लिए लाभदायक है । जब आप वक्रासन का अभ्यास करते हैं, तो यह हमारी पीठ और रीढ़ की मांसपेशियों और नसों पर खिंचाव और दबाव बनाने में मदद करता है। यह आपकी पीठ और रीढ़ की मांसपेशियों और तंत्रिकाओं को बेहतर बनाता है।
  2. फेफड़ों को मजबूत बनता है:- वक्रासन हमारे फेफड़ों के लिए लाभदायक है ,यह शरीर का महत्वपूर्ण अंग है। हमारे शरीर में साँस के साथ जितनी ज्यादा ऑक्सीजन जाती है शरीर उतना ही सेहतमंद बना रहता है। इसलिए, यह हमारे फेफड़ों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है।
  3. यह अन्य स्वास्थ्य समस्याओं जैसे गर्दन में दर्द, पीठ दर्द और सिरदर्द का इलाज करने में मदद करता है।
  4. वक्रासन शरीर में लचीलापन बढ़ाने और शरीर में कठोरता को कम करने में मदद करता है। विशेषकर जिन लोगों का गठीला शरीर है, उन्हें वक्रासन का अभ्यास करना चाहिए।
  5. वक्रासन उन लोगों को लाभ पहुंचाता है जो मधुमेह की समस्या से पीड़ित हैं। जब आप वक्रासन का अभ्यास करते हैं, तो यह पेट के अंगों की मालिश का काम करता है जिसमें अग्न्याशय शामिल होता है।
  6. यह गठिया, मधुमेह और कब्ज जैसी स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज करने में मदद करता है। जिन लोगों को मधुमेह है, उन्हें प्रतिदिन वक्रासन का अभ्यास करना चाहिए।
  7. यह स्लिप्ड डिस्क और कटिस्नायुशूल के हल्के मामलों वाले लोगों के लिए फायदेमंद है।
  8. ये योग उन लोगों के लिए बेहद फायदेमंद है जो पीठ दर्द से गुजर रहे हैं। विशेष रूप से पीछे और आगे झुकने वाले योग आसनों के कारण जिन लोगों को दर्द हो रहा है।
  9. सिरदर्द की समस्या को ठीक करने के लिए वक्रासन मदद करता है। जब आप वक्रासन का अभ्यास करते हैं, तो यह विभिन्न अंगों में रक्त को प्रसारित करने में मदद करता है जिसमें हमारा मस्तिष्क भी शामिल होता है, और यह सिरदर्द से छुटकारा पाने में मदद करता है।
  10. पाचन क्रिया के घूमने और सिकुडने के कारण वक्रासन पाचन प्रक्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है, हमारा पाचन तंत्र पाचन प्रक्रिया को बढ़ाने वाले अधिक पाचक रस को रिलीज करता है।
  11. वक्रासन मूत्राशय के स्वास्थ्य को बढ़ाता है और मूत्र संक्रमण को रोकता है। साथ ही, यह आसन मूत्र भाग में रक्त, पोषक तत्वों और ऑक्सीजन के प्रवाह को सुनिश्चित करने में मदद करता है।
  12. हमारे शरीर के जिन अंगों को वक्रासन से लाभ होता है, वे हैं पीठ, हाथ, रीढ़, पेट और कंधे।

और ये भी पढ़े:- एक पादासन करने का तरीका और लाभ

वक्रासन में सावधानी | Vakrasana Precautions in Hindi

जब आप वक्रासन योग का अभ्यास कर रहे हों तो पीठ वाले भाग में गति को कम करने की कोशिश करें। यह आपको ज्यादा बेहतर तरीके से वक्रासन का अभ्यास करने में मदद करेगा और आपको अधिकतम वक्रासन लाभ प्राप्त करने में मदद करेगा। जब आप वक्रासन योग का अभ्यास करते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप अपने रीढ़ वाली जगह पर अतिरिक्त दबाव न पड़े। इसे सही तरीके से करें ।

वक्रासन का अभ्यास करते समय सुनिश्चित करें कि आपके कंधे बराबर हों। वक्रासन योग का अभ्यास करते समय आपकी पीठ सीधी होनी चाहिए ।

  • रीढ़ की हड्डी की चोट होने पर इस आसन का अभ्यास नहीं करे।
  • हरनिया हो तो ये आसन नहीं करे।
  • पीठ दर्द होने पर आसन से बचे।
  • पेप्टिक अल्सर हो तो आसन नहीं करे।
  • गर्भावस्था के दो से तीन महीने के बाद वक्रासन का अभ्यास न करें।
  • यदि आप स्लिप्ड डिस्क या कटिस्नायुशूल से पीड़ित हैं तो वक्रासन का अभ्यास न करें।
  • यदि आप घुटने के दर्द से पीड़ित हैं तो वक्रासन का अभ्यास न करें।
  • अगर आप दिल या मस्तिष्क की समस्या से पीड़ित हैं तो वक्रासन का अभ्यास न करें।
  • उदर क्षेत्र की सर्जरी के मामले में वक्रासन का अभ्यास न करें।
  • पेट दर्द होने पर इसका अभ्यास नहीं करे।
  • गर्दन दर्द होने पर भी इसको नहीं करे।

और ये भी पढ़े:- कुक्कुटासन योग की विधि और लाभ

वक्रासन योग का अभ्यास करने से पहले वाले आसन

वज्रासन
उष्ट्रासन
दण्डासन
ताड़ासन
शवासन
शशांकासन
भद्रासन

और ये भी पढ़े:- उत्कटासन योग विधि, लाभ और सावधानी

वक्रासन में सांस की प्रक्रिया

  • इस आसन में सांस को छोड़ते हुए कमर को आप किसी एक तरफ मोड़ते हैं।
  • इसमें ध्यान रहे की धीरे धीरे सांस लें और धीरे धीरे ही सांस छोड़े।
  • इसके बाद लंबा सांस लेते हुए शुरुआत की स्थति में आएं।

वक्रासन से जुडी कुछ बातें, आपको जरूर जानना चाहिए

इस योग के लिए शरीर में लचीलेपन की आवश्यकता होती है यदि कोई व्यक्ति लचीला है, तो वह इसे आसानी से कर सकता है।

वक्रासन के अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए इस आसन का अभ्यास करते समय आपकी पीठ स्थिर होनी चाहिए।

वक्रासन का अभ्यास करते समय, आसन की अंतिम स्थिति को सही तरिके से करना चाहिए और अपनी पीठ को सीधा रखना चाहिए।

रीढ़ के लिए वक्रासन सर्वश्रेष्ठ आसनों में से एक है।

डाइबिटीज रोगी के लिए वक्रासन अद्भुत है, इसके आलावा स्पोंडिलोसिस, एनोरेक्सिया, मासिक धर्म संबंधी विकार, ग्रीवा, अपच और कब्ज से पीड़ित व्यक्तियों के लिए भी सही हैं।

वक्रासन ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की आपूर्ति करने में मदद करता है। इसके साथ ही या pelvic region में रक्त परिसंचरण को बढ़ाने में मदद करता है। यह महिला में प्रजनन क्षमता के लिए अच्छा है।

आप जब भी वक्रासन योग का अभ्यास करे तो ध्यान रहे की आप इसे सही तरीके से करे और आप इसकी सावधानी और वक्रासन के लाभों को ध्यान में रखते हुए करे।

और ये भी पढ़े

गोरक्षासन विधि और लाभ

सूर्य नमस्कार के 12 चरण | Surya Namaskar Pose and Benefits

Add Comment