Home / Food and Drink / रोगानुसार गाय के घी के उपयोग
रोगानुसार गाय के घी के उपयोग

रोगानुसार गाय के घी के उपयोग

रोगानुसार गाय के घी के उपयोग- भारत एक कृषि पर निर्भर वाला देश है। और कृषि ही आय का स्रोत है। और ऐसे में किसान भारत की रीढ़ की हड्डी है। गाय को किसान की अच्छी मित्र और साथी माना जाता है। गाय की उप्योगिता बहुत है। प्राचीन भारत में गाय समृद्धि का प्रतीक मानी जाती थी। तो आइये जानते रोगानुसार गाय के घी के उपयोग-

1. गाय का घी नाक में डालने से पागलपन दूर होता है। जाने देसी गाय का दूध अमृत समान क्यों हैं।

2. गाय का घी नाक में डालने से एलर्जी खत्म हो जाती है।

3. गाय का घी नाक में डालने से लकवा का रोग में भी उपचार होता है।

4. 20-25 ग्राम गाय का घी व मिश्री खिलाने से शराब, भांग व गांजे का नशा कम हो जाता है।

5. गाय का घी नाक में डालने से कान का पर्दा बिना ओपरेशन के ही ठीक हो जाता है।

6. नाक में घी डालने से नाक की खुश्की दूर होती है और दिमाग तरो ताजा हो जाता है।

7. गाय का घी नाक में डालने से कोमा से बाहर निकल कर चेतना वापस लोट आती है।

8. गाय का घी नाक में डालने से बाल झडना समाप्त होकर नए बाल भी आने लगते है। बालो के लिए प्याज रस के अन्य प्रयोग

9. गाय के घी को नाक में डालने से मानसिक शांति मिलती है, याददाश्त तेज होती है। स्मरण शक्ति बढ़ाने के घरेलु उपाय

10. हाथ-पॉँव मे जलन होने पर गाय के घी को तलवो में मालिश करें जलन ठीक होता है।

11. हिचकी के न रुकने पर खाली गाय का आधा चम्मच घी खाए, हिचकी स्वयं रुक जाएगी।

12. गाय के घी का नियमित सेवन करने से एसिडिटी व कब्ज की शिकायत कम हो जाती है।

13. गाय के घी से बल और वीर्य बढ़ता है और शारीरिक व मानसिक ताकत में भी इजाफा होता है।

14. गाय के पुराने घी से बच्चों को छाती और पीठ पर मालिश करने से कफ की शिकायत दूर हो जाती है।

15. अगर अधिक कमजोरी लगे, तो एक गिलास दूध में एक चम्मच गाय का घी और मिश्री डालकर पी लें।

16. हथेली और पांव के तलवो में जलन होने पर गाय के घी की मालिश करने से जलन में आराम आयेगा।

17. गाय का घी न सिर्फ कैंसर को पैदा होने से रोकता है और इस बीमारी के फैलने को भी आश्चर्यजनक ढंग से रोकता है।

18. जिस व्यक्ति को हार्ट अटैक की तकलीफ है और चिकनाई खाने की मनाही है तो गाय का घी खाएं, इससे ह्रदय मज़बूत होता है।

Also Read:-  जाने हार्ट अटैक आने के संकेत

19. देसी गाय के घी में कैंसर से लड़ने की अचूक क्षमता होती है। इसके सेवन से स्तन तथा आंत के खतरनाक कैंसर से बचा जा सकता है।

Also Read:-  Cancer: ये लक्षण गले में कैंसर का इशारा करते है ,रहे सतर्क

20. गाय का घी, छिलका सहित पिसा हुआ काला चना और पिसी शक्कर या बूरा या देसी खाण्ड, तीनों को समान मात्रा में मिलाकर लड्डू बाँध लें । प्रतिदिन प्रातः खाली पेट एक लड्डू खूब चबा-चबाकर खाते हुए एक गिलास मीठा गुनगुना दूध घूँट-घूँट करके पीने से स्त्रियों के प्रदर रोग में आराम होता है, पुरुषों का शरीर मोटा ताजा यानी सुडौल और बलवान बनता है।रोगानुसार गाय के घी के उपयोग

21. फफोलों पर गाय का देसी घी लगाने से आराम मिलता है।

22. गाय के घी की छाती पर मालिश करने से बच्चो के बलगम को बहार निकालने मे सहायता मिलती है।

23. सांप के काटने पर 100 -150 ग्राम गाय का घी पिलायें, उपर से जितना गुनगुना पानी पिला सके पिलायें, जिससे उलटी और दस्त तो लगेंगे ही लेकिन सांप का विष भी कम हो जायेगा।रोगानुसार गाय के घी के उपयोग

24. दो बूंद देसी गाय का घी नाक में सुबह शाम डालने से माइग्रेन दर्द ठीक होता है। माइग्रेन से मिलेगा छुटकारा

25. सिर दर्द होने पर शरीर में गर्मी लगती हो, तो गाय के घी की पैरों के तलवे पर मालिश करे, इससे सिरदर्द दर्द ठीक हो जायेगा।सर दर्द को नहीं करे नजरअंदाज !

26. यह स्मरण रहे कि गाय के घी के सेवन से कॉलेस्ट्रॉल नहीं बढ़ता है । वजन भी नही बढ़ता, बल्कि यह वजन को संतुलित करता है । यानी के कमजोर व्यक्ति का वजन बढ़ता है तथा मोटे व्यक्ति का मोटापा (वजन) कम होता है।रोगानुसार गाय के घी के उपयोग

27. एक चम्मच गाय के शुद्ध घी में एक चम्मच बूरा और 1/4 चम्मच पिसी काली मिर्च इन तीनों को मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय चाट कर ऊपर से गर्म मीठा दूध पीने से आँखों की ज्योति बढ़ती है।

28. गाय के घी को ठन्डे जल में फेंट ले और फिर घी को पानी से अलग कर ले यह प्रक्रिया लगभग सौ बार करे और इसमें थोड़ा सा कपूर डालकर मिला दें । इस विधि द्वारा प्राप्त घी एक असर कारक औषधि में परिवर्तित हो जाता है जिसे जिसे त्वचा सम्बन्धी हर चर्म रोगों में चमत्कारिक कि तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं । यह सौराइशिस के लिए भी कारगर है।रोगानुसार गाय के घी के उपयोग

29. गाय का घी एक अच्छा (LDL) कोलेस्ट्रॉल है। उच्च कोलेस्ट्रॉल के रोगियों को गाय का घी ही खाना चाहिए । यह एक बहुत अच्छा टॉनिक भी है।

30. अगर आप गाय के घी की कुछ बूँदें दिन में तीन बार, नाक में प्रयोग करेंगे तो यह त्रिदोष (वात पित्त और कफ) को सन्तुलित करता है ।

आइये जानते है रसोई में छुपे बिना फीस वाले डॉक्टर को

Weight Loss Tips: वजन कम करना है तो ये सब्जियां खाएं

गूलर के गुण और उससे होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

आम की प्रजातियां और आमो के लाभ-Mango Benefits

About admin

Check Also

धनिये का पानी पीने के फायदे

धनिये का पानी पीने के फायदे

साबुत धनिया, जीरा व सौंफ तीनो आधा आधा चम्मच और मिश्री एक चम्मच मिलाकर पीस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *