Breaking News
Home / Food and Drink / रिफाइंड तेल खाने के नुकसान

रिफाइंड तेल खाने के नुकसान

अधिकतर लोगो की ये ही आम राय है की रिफाइंड तेल से कम नुकसान होता है। टीवी में रिफाइंड के लिए जैसा विज्ञापन दिखाया जाता है वैसा नहीं है। पिछले 20 -25 वर्षों से रिफाइंड तेल हमारे देश में आया है। विदेशी कंपनियों के लिए कमाने का यह एक अच्छा स्त्रोत है आज आपको ये जानकर बहुत हैरानी होगी की रिफाइंड आपकी सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक है, क्योंकि इसे बनाने के लिए बहुत से रसायनो का इस्तेमाल किया जाता है और वो असंतृप्त होते है। इसके कारण वो आपके शरीर के लिए किसी जहर से कम नहीं होते है।

और ये पढ़े:-नारियल तेल के बहुत सारे फायदे 

आजकल डॉक्टरों के माध्यम से इसके फायदे गिनवाने शुरू कर दिया है। डॉ अपने प्रेस्क्रिप्शन में रिफाइन तेल खाने के लिए लिखना शुरू कर दिया है। हम रिफाइंड तेल का उपयोग करना बिना किसी जांच और रिपोर्ट के शुरू कर दिए है।आइए देखें कि रिफाइंड तेल के नुकसान क्या-क्या हैं-

रिफाइंड तेल से होने वाले नुकसान(Refined oil side effect in hindi):-

जोड़ो में दर्द होना

रिफाइंड आयल (Refined oil) खाने से आपको जॉइंट पेन की समस्या हो सकती है क्योंकि रिफाइंड तेल से आपके शरीर में असंतृप्त वसा का जमाव होने लगता है। और इसके कारण धीरे धीरे यह आपके जॉइंट पर असर डालता है और आपको इस समस्या का सामना करना पड़ता है।

और ये पढ़े:-जानें कैसे, जोड़ो के दर्द में आराम देती है दालचीनी

मस्तिष्क पर

यदि आप रिफांइड ऑयल का बहुत ज्यादा उपयोग करते हो तो ये आपके मस्तिष्क पर बुरा असर डाल सकती है। आपके सोचने की क्षमता पर बुरा असर पड़ सकता है।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने में

कुछ कम्पनी दवा करती है की Refined oil खाने से आपको ह्रदय से सम्बन्धी बीमारी नहीं होती है। और बोलते है की ये आपके कोलेस्ट्रॉल को कम करेगी। लेकिन ऐसा कुछ नहीं है क्योंकि रिफाइंड तेल से आपके शरीर में असंतृप्त वसा का जमाव होने से आपके शरीर का कोलस्ट्रोल बढ़ता है। इसलिए ये आपके ये पर भी बुरा असर डाल सकती है।

पानी पीने का भी तरीका होता है जरूर पढ़े!

वजन बढ़ाने में

वजन बढ़ने का मुख्या कारन है वसा का अधिक सेवन जो कैलोरी को बढ़ाता है। जिससे शरीर में चर्बी और वजन बढ़ाता है। इसलिए इसका जितना हो सके कम इस्तमाल करे।

रिफाइंड तेल के ये कुछ नुकसान है, यदि आप आपके शरीर को बुरे प्रभाव से बचाना चाहते है तो इसके अलावा रिफाइंड तेल छोड़ घानी से निकला हुआ शुद्ध सरसों का तेल, तिल या मूंगफली का तेल ही खाइये।

और ये पढ़े:-मोटापा कम के लिए क्या उपाय करे ?

रिफाइंड कैसे बनाया जाता है:-

रिफांइड ऑयल के बारे में शायद आप नहीं जानते की इसको कैसे बनाया जाता है तिलहन का प्रयोग किया जाता है और इसे रिफाइन किया जाता है। इसको बहुत अधिक तापमान पर 200-500 डिग्री सेल्सेयस पर गर्म किया जाता है। और उसके बाद घातक पैट्रोलियम उत्पाद हेग्जेन का इस्तेमाल बीजो से अच्छे से तेल निकालने के लिए किया जाता है। इसके बाद भी इसमें कई और रसायन जैसे ब्लीचिंग क्लेंज, फॉस्फोरिक एसिड, कास्टिक सोडा आदि का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा भी गंध-रहित, स्वाद-रहित व पारदर्शी बनता है जिससे यदि ख़राब बीजो से भी तेल निकला गया हो तो पता नहीं चलता। तेल को रिफाइन करने में 6-7 केमिकल के प्रयोग किया जाता है। यदि डबल रिफाइन हो तो ये ही केमिकल की संख्या डबल हो जाती है। इनमे एक भी केमिकल आर्गेनिक नहीं होता है।

मोटापा कम करने के लिए अलसी के बीजो का सेवन ऐसे करे

अश्वगंधा का उपयोग कैसे करे, लौकी के जूस पीने के फायदे और इसे बनाने की विधि

हींग का अनेक रोगो में घरेलु उपाय, जाने ग्रीन टी के फायदे और नुकसान

About admin

Check Also

Pani Pine ke Fayde

जानें कब है पानी पीने का सही समय, सही तरीके और इससे होने वाले लाभ(Pani Pine ke Fayde)

Pani Pine ke Fayde- आजकल के इस आधुनिक युग में ज्यादातर लोग पेट संबंधित रोगों …