प्राणासन की विधि और लाभ

प्राणासन की विधि | Pranasana Steps

Pranasana Steps in hindi

जमीन पर बैठकर दाये पांव को बायीं जांघ के मूल में उपर की ओर रखें जोर बाये पाव को घुटने से मोढ़कर खडा कर ले । फिर दाये भूजदण्ड को घुटने कं ऊपर टेके ।

फिर हाथ को, बाये घुटने के निचे निकालकर हथेली की जमीन पर टिका ले।

और ये भी पढ़े:- आकर्ण धनुरासन को करने का सही तरीका और फायदे

प्राणासन के लाभ | Pranasana Benefits

यह आसन भुजाओं को शक्ति देता है तया सुडौल और सुपुष्ट बनाता है । स्वास-प्रश्वास की प्रक्रिया को व्यवस्थित करता है। जांघों, घुटनों और पिण्डलियों की मासपेशियो भी सुदृढ़ होती है।

हदय, फुफ्फुस और प्राणो को बल देने में यह बहुत उपयोगी है । इसलिये इसका नाम “प्राणासन’ रखा गया है ।

और ये भी पढ़े:- चक्रासन कैसे करे | chakrasana in Hindi | Benefits

प्राणासन की सावधानियां | Pranasana precautions

  • इस आसन को खाली पेट करें।
  • इस आसन को करने से 3-4 घंटे पहले कुछ नहीं खाना चाहिए।
  • इसका अभ्यास करते समय आसन को आराम से करे।
  • कमजोर लोगों को इसे बहुत सावधानी से करना चाहिए।
  • इस मुद्रा को सुबह करना बेहतर रहेगा।

और ये भी पढ़े:- वीरासन की विधि और लाभ

प्राणासन करने का समय | Time Duration of Pranasana

शुरुआत में इसे 5-6 सेकंड करे और 2-3 बार करे। फिर समय हर सप्ताह 1-2 सेकंड बढ़ाये। फिर इसका समय बढ़ाकर 15-20 सेकंड तक इसका अभ्यास करे। जब आप इसे नियमित और अच्छे से करने लग जाओ तब इसे 5-10 मिनट तक कर सकते है।

और ये भी पढ़े

सिंहासन योग विधि, लाभ और सावधानी

आकर्ण धनुरासन को करने का सही तरीका और फायदे

Add Comment