मत्स्यासन करने की विधि और लाभ

मत्स्यासन को मछली आसन भी कहते है। इस आसन का नाम संस्कृत भाषा से आया है । मत्स्य शब्द का अर्थ है मछली और आसन शब्द का अर्थ है योग आसन या योग मुद्रा।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, मत्स्य या मछली वास्तव में भगवान विष्णु का अवतार थी। भगवान विष्णु को पालक और ब्रह्मांड को बचाने वाले के रूप में जाना जाता है। यह माना जाता है कि एक बार भारी वर्षा और बाढ़ से पृथ्वी के सभी प्रकार के पाप धोने जा रही थे। ऐसा इसलिए है क्योंकि भगवान विष्णु ने मछली के रूप में अवतार लिया और सभी संतों को सुरक्षा के लिए मदद की।

उन्होंने यह भी सुनिश्चित किया कि पूरी प्रक्रिया के माध्यम से ज्ञान को संरक्षित किया जाना था। जब भी व्यक्ति पृथ्वी और समुद्र के बीच संतुलन बिगड़ता है तो इस योग आसन से ध्यान केंद्रित करने और लचीलापन लाने के लिए अभ्यास किया जाता है।

और ये भी पढ़े:- गोरक्षासन विधि और लाभ

मत्स्यासन आसन करने की विधि | Matsyasana Steps in Hindi

Matsyasana Steps in Hindi

इस आसन की प्रथमावस्था में पद्मासन लगाकर धीरे-धीरे पीछे की ओर पीठ के बल लेट जाइये; किन्तु पांवों को दोनों हाथों से पकड़े रहें। इस प्रकार लेटकर कोशिश करें कि पीठ और पेट वाले शरीर के बीच के भाग को धीरे-धीरे उठाइये।

ऐसा करने से सिर का ऊपरी भाग जमीन पर टिक जायेगा और पीठ मेहराब-सी बन जायेगी। इस क्रिया को करते समय गहरी सांस खींचें, छाती में भरें और निकालें।

यही इस आसन की पूर्णावस्था है। इसके नियमित अभ्यास से फेफड़े मजबूत होते हैं और रक्त शुद्ध होने में मदद मिलती है।

और ये भी पढ़े:- उत्कटासन योग विधि, लाभ और सावधानी

मत्स्यासन के लाभ | Matsyasana Steps in Hindi

रीढ़, पेट की आंतें तथा पेडू का भाग पुष्ट होता है।

दमा, खांसी और टॉन्सिल को दूर करने में काफी सहायक होता है।

यदि किसी की नाभि अपने स्थान से हट गयी हो, तो इसकी क्रिया करने से नाभि अपने स्थान पर आ जाती है।

यह आपकी गर्दन और ऊपरी पीठ की मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।

मत्स्यासन से आपका मन शांत होता है, चिंता, तनाव, अवसाद और थकान को दूर भागता है।

महिलाओं में मासिक धर्म में होने वाले दर्द को कम करता है।

और ये भी पढ़े:- वक्रासन करने का सही तरीका और लाभ

मत्स्यासन से पहले करने वाले आसन

इस आसन से पहले इन आसनो का अभ्यास करना चाहिए-

वीरासन
भुजंगासन
बद्ध कोणासन
शलभासन
धनुरासन
सुप्त वीरासन
उर्ध्व मुख शवासन
सेतु बंध सर्वंगासन

मत्स्यासन के बाद करने वाले आसन

मत्स्यासन के बाद निचे दिए गए आसन करने चाहिए-

उष्ट्रासन
वीरासन
गोमुखासन
सेतु बंध सर्वंगासना

मत्स्यासन से पहले जानें कुछ जरूरी बातें

यह गर्दन में तनाव दूर करने के लिए एक बहुत ही अच्छा योग है। यह जरुरी है कि इस आसन को करते समय हर एक स्टेप को धीरे धीरे करे और विभिन्न चरणों में न जाएं। ध्यान रहे कि जब आप मत्स्यासन का अभ्यास कर रहे हों तो आपका पेट खाली हो।

इस आसन को करने का सबसे अच्छा समय सुबह का समय है। हालाँकि, आप शाम के समय भी इस आसन का अभ्यास कर सकते हैं।

शुरू में आप मत्स्यासन का अभ्यास करते समय कुछ असुविधा महसूस कर सकते हैं क्योंकि आप गलती से अपनी गर्दन को तनाव दे सकते हैं। तो अगर आप गले या गर्दन के क्षेत्र में किसी भी दर्द का अनुभव करते हैं, तो आप अपनी छाती या चेस्ट को जमीन की सतह के करीब रखें या अपने सिर के नीचे एक मोटा कंबल लगा सकते है।

यदि आप चाहें, तो आप एक साथी की मदद भी ले सकते हैं जो आपके शरीर को अतिरिक्त सहायता दे सकता है। जिससे आप इस आसन को आसानी से कर सके।

और ये भी पढ़े:-एक पादासन करने का तरीका और लाभ

मत्स्यासन में कुछ परिवर्तन

इस आसन में आप कुछ चुनौतीपूर्ण चरणों को जोड़कर इसे चुनौतीपूर्ण बना सकते हैं। यदि आप इस आसन के साथ सहज हैं, तो पद्मासन की स्थिति में मत्स्यासन करें । शेष विधि समान हैं लेकिन पैरों की स्थिति पद्मासन में बदल जाती है या रखी जाती है।

इस आसन के दूसरे परिवर्तन में, अपने पैरों को जमीन पर सीधा रखें। सांस छोड़ें और अपने पैरों को जमीन से 45 डिग्री पर उठाएं और 15 से 20 सेकंड तक सांस को रोककर रखें। लेकिन शरीर का बाकि हिस्सा उसी स्थिति हो में हो केवल आप अपने पैरों को ऊपर उठाएं।

मत्स्यासन की सावधानी | Matsyasana Precautions in Hindi

जिनको हाल ही में सिर या गर्दन की चोट हो उन्हें मत्स्यासन से बचना चाहिए। आप अपने सिर के नीचे एक मुड़ा हुआ कंबल का उपयोग भी कर सकते है।

ध्यान रहे की आपके पुरे शरीर का भार सिर पर और गर्दन पर न रखें। यदि आपको कुछ दर्द महसूस होता है तो आसन को रोक देना चाहिए है। यदि आवश्यक हो तो किसी सहयोगी की मदद ले सकते है।

जो लोग हृदय रोगों, बी पि की समस्या से पीड़ित हैं, उन्हें मत्स्यासन नहीं करना चाहिए।

माइग्रेन और अनिद्रा से पीड़ित रोगियों को भी इसका अभ्यास करने से बचना चाहिए।

जिन पुरुषों और महिलाओं पेट की सर्जरी हुई है, उन्हें मत्स्यासन नहीं करना चाहिए। यह हर्निया वाले लोगों पर भी लागू होता है।

यदि किसी व्यक्ति को चक्कर आना या सर्वाइकल स्पाइन की समस्या है, तो उसे इस आसन को नहीं करना चाहिए।

और ये भी पढ़े:-कुक्कुटासन योग की विधि और लाभ

मत्स्यासन के ​पीछे का विज्ञान | The Science Behind The Matsyasana

जब आप अपने आप को असुरक्षित, अनिश्चित, भ्रमित और अंदर से हिला हुआ महसूस करते हैं तो आप इस आसन का प्रयोग कर अपने ध्यान को केंद्रित कर सकते है। यह आसन को आपको हर प्रकार की मुश्किल से लड़ने के लिए प्रेरित करता है।

जब आप मत्स्यासन का अभ्यास करते हैं, तो आपके पैर इस हद तक जमीन पर आ जाते हैं, मानो वे धरती के अंदर तक दबे हुए हों। और इस तरह यह आपके सीने को ऊपर उठाने में मदद करता है और गहरी स्वास लेने में मदद करता है। यह मुद्रा आपके पेट और पीठ को भी मजबूत बनाती है। आपकी गर्दन का मुड़ना थायरॉयड की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

यह अन्य पिछने झुकने वाले योग की तरह, यह आपके मूड को भी अच्छा करने में मदद करता है। यह आपको उर्जावान महसूस करवा सकता है, ताकि आप अपने दिनभर के जीवन की चुनौतियों को पूरा करने के लिए तरोताजा और सक्रिय महसूस करें।

Tips

ध्यान रहे की अपने सिर के साथ-साथ अपनी गर्दन पर भी बहुत अधिक दबाव डालने से बचे। जब आपको गर्दन वाले भाग में कोई खिंचाव या दर्द महसूस होता है, तो मत्स्यासन को तुरंत रोक दें, इसके लिए अपनी छाती को जितना ऊपर उठा सकते हैं, उठाएँ। आराम के लिए सिर के नीचे एक कंबल का भी उपयोग करें।

इसलिए जैसा कि आप मत्स्यासन के विधि और लाभों (Matsyasana Steps and Benefits) के बारे में खुद को परिचित करा चुके हैं, तो आगे बढ़ें और शारीरिक और भावनात्मक कल्याण के लिए इस आसन का अभ्यास करें।

और ये भी पढ़े

चतुरंग दंडासन की विधि और लाभ

पश्चिमोत्तानासन की विधि और लाभ

Add Comment