Breaking News
Home / योग / आसनो से दूर करे कमर और पीठ का दर्द

आसनो से दूर करे कमर और पीठ का दर्द

बुढ़ापे और वर्द्ध अवस्था में स्त्री-पुरुषो को कमर दर्द की शिकायत प्रायः हो ही जाती है और लेकिन ये समस्या कभी कभी युवा अवस्था में भी हो जाती है। कमर दर्द होने के दो कारन हो सकते है। इसका पहला मुख्य कारन तो वात के बिगड़ने से हो सकता है। दूसरा कारन चोट लगाने के कारन जो पुरानी चोट से भी हो सकता है या फिर मोटे और नरम गद्दे पर सोना।

और ये भी पढ़े:-जाने कमर दर्द होने के मुख्य कारण

कमर दर्द को दूर करने के लिए आपको कुछ आसान करने होंगे। और ये आसान आपको बिस्तर से उतरने से पहले करने होंगे। यदि आपको अपच और कब्ज की स्थति है तो इनको दूर करने के उपाय करने चाहिए। प्रतिदिन प्रातः उठाते ही 10 -15 बार ये करना चाहिए और यह क्रिया करके ही बिस्तर से उतरे।

 

आसान कैसे करे

कमर और पीठ दर्द दूर करने के लिए आसान कैसे करे-

  • सबसे पहले जैसी ही नींद खुले पहले प्रभु का नाम ले फिर करवट ले कर पेट के बल लेट जाये और दोनों हाथो के पंजे कंधो के पास रखे।

  • इसके बाद हाथो के बल कंधो को ऊपर उठाये और पैरो को सिकोड़कर घुटनो के बल घोड़े की मुद्रा में हो जाये।

  • अब आप कमर को पीछे की तरफ खींचते हुए और हाथ लम्बे करते हुए जांघो को पिंडलियों से लगाकर बेथ जाये। ध्यान रहे आपका चेहरा उठा हुआ और हाथ लम्बे रखे साथ में नजर सामने रखे।

  • कुछ देर तक इसी मुद्रा में पिंडलियों पर बैठे रहने के बाद वापस घोड़ी की मुद्रा में आ जाये।
  • इसके बाद सीना और पेट वापस बिस्तर पर रख कर दोनों हाथो के पंजो को कंधो के पास रख कर पहली मुद्रा की स्थति में आ जाये।

ये आसन पूरा समाप्त हुआ। ये पूरी क्रिया आप अपनी सुविधा के अनुसार 4-5 बार करे फिर धीरे धीरे इसकी संख्या बड़ा ले 40-50 बार तक करे। कमर दर्द में आराम मिलेगा।

और ये भी पढ़े:-शीर्षासन की विधि और फायदे

आसन के लाभ:-

यह आसन हाथो, कंधो, फेफड़ो, घुटनो, जांघो और पिंडलियों के लिए अच्छा व्यायाम है इसके अलावा गला, सीना, पीठ, कमर और पेट को शक्ति और लचीलापन देने वाला अच्छा व्यायाम है। इसके अभ्यास से ये सभी अंग लचीले, बलवान और सुडौल बनाने में मदद मिलती है। यदि किसी के कमर दर्द है तो इस अभ्यास को नियमित रूप से करने में दर्द कभी नहीं होगा। ध्यान रहे इस क्रिया या अभ्यास को करने के बाद ही बिस्तर से निचे उतरे और प्रातः काल के नित्यकर्म करे। इस प्रयोग से कई लोगो के कमर दर्द से छुटकारा मिला है।

प्राणायाम के कुछ आवश्यक नियम और निर्देश, अनुलोम-विलोम प्राणायाम

योग के कुछ नियम जाने कब करे और कब नहीं करे,  मन अशांत है तो करे पद्मासन

About admin

Check Also

बद्धपदमासन: विधि और फायदे

बद्धपदमासन क्या है :- बद्ध का अर्थ होता है बांधना। पदमासन की मुद्रा बनाकर हाथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *