Home / रोग / Home Remedy for ulcer: अल्सर का घरेलु उपचार

Home Remedy for ulcer: अल्सर का घरेलु उपचार

आपको बता दे की अल्सर का शाब्दिक अर्थ घाव होता है

अल्सर का घरेलु उपचार(Home Remedy for ulcer)-अल्सर(Ulcer) का प्रथम चरण हाइपर एसिडिटी होना हैं, कभी भी एसिडिटी(acidity) को इग्नोर नहीं करे। यदि आपको लगातार(बार-बार) आमाशय या पेट में दर्द हो तो अपने doctor की सलाह अवश्य लें क्योंकि अक्सर यही अल्सर के लक्षण(Symptoms of Ulcer) होते हैं। अन्य लक्षणों में मितली आना, उल्टी आना, गैस बनना, पेट फूलना, भूख न लगना और वजन में गिरावट(Weight loss) शामिल हैं।मोटापा कम के लिए क्या उपाय करे

और ये भी पढ़े:- पेट में अल्सर के लक्षण और कारण |Stomach Ulcer Symptoms and Causes

अल्सर की जानकारी और निदान- stomach ulcer treatment

यह शरीर के भीतर कहीं भी हो सकता है; जैसे – मुंह, आमाशय, आंतों आदि में| परन्तु अल्सर(Ulcer) शब्द का प्रयोग प्राय: आंतों में घाव या फोड़े के लिए किया जाता है| यह एक घातक रोग है, लेकिन उचित आहार से अल्सर एक-दो सप्ताह में ठीक हो सकता है|

अधिक मात्रा में चाय, कॉफी, शराब, खट्टे व गरम पदार्थ, तीखे तथा जलन पैदा करने वाली चीजें, मसाले वाली वस्तुएं आदि खाने से प्राय: अल्सर(Ulcer) हो जाता है| इसके अलावा अम्लयुक्त भोजन, अधिक चिन्ता, ईर्ष्या, द्वेष, क्रोध, कार्यभार का दबाव, शीघ्र काम निपटाने का तनाव, बेचैनी आदि से भी अल्सर(Ulcer) बन जाता है| पेप्टिक अल्सर में आमाशय तथा पक्वाशय में घाव(wound) हो जाते हैं| धीरे-धीरे ऊतकों को भी हानि पहुंचनी शुरू हो जाती है| इसके द्वारा पाचक रसों की क्रिया ठीक प्रकार से नहीं हो पाती| फिर वहां फोड़ा बन जाता है |

और ये भी पढ़े:- गर्दन में दर्द:- गलत मुद्रा में बैठने से बढ़ता है

पेट में हर समय जलन होती रहती है। खट्टी-खट्टी डकारें आती हैं। सिर चकराता है और खाया-पिया उल्टी के द्वारा निकल जाता है। पित्त जल्दी-जल्दी बढ़ता है| भोजन में अरुचि हो जाती है। कब्ज रहता है| जब रोग बढ़ जाता है तो मल के साथ खून आना शुरू हो जाता है| पेट की जलन छाती तक बढ़ जाती है| शरीर कमजोर हो जाता है और मन बुझा-बुझा सा रहता है। रोगी चिड़चिड़ा हो जाता है| वह बात-बात पर क्रोध प्रकट करने लगता है।

अगर अल्सर का समय पर इलाज न करे तो बड़ा रूप ले सकता है।

और ये भी पढ़े:- माइग्रेन से मिलेगा छुटकारा

अल्सर कई प्रकार का होता है- types of ulcer

अमाशय का अल्सर, पेप्टिक अल्सर या गैस्ट्रिक अल्सर। अल्सर उस समय बनते हैं जब खाने को पचाने वाला अम्ल अमाशय(Stomach) की दीवार को क्षति पहुंचाता है, ये एसिड इतना खतरनाक होता हैं के इसकी तीव्रता आप इस से लगा सकते हैं के पेट में बनने वाला ये एसिड लोहे के ब्लेड को भी गलने की क्षमता रखता हैं। पोषण की कमी, तनाव(तनाव से बचे) और लाइफ-स्टाइल(LifeStyle) को अल्सर का प्रमुख कारण माना जाता था।

अल्सर का घरेलु उपचार – homemade treatment of ulcer

पोहा अल्सर के लिए बहुत फायदेमंद घरेलू नुस्खा है, इसे Bitton rice भी कहते हैं। पोहा और सौंफ को बराबर मात्रा में मिलाकर चूर्ण बना लीजिए, 20 ग्राम चूर्ण को 2 लीटर पानी में सुबह घोलकर रखिए, इसे रात तक पूरा पी जाएं। यह घोल नियमित रूप से सुबह तैयार करके दोपहर बाद या शाम से पीना शुरू कर दें। इस घोल को 24 घंटे में समाप्त कर देना है, अल्सर में आराम मिलेगा।

और ये भी पढ़े:- जाने कमर दर्द होने के मुख्य कारण

पत्ता गोभी और गाजर को बराबर मात्रा में लेकर जूस बना लीजिए, इस जूस को सुबह-शाम एक-एक कप पीने से पेप्टिक अल्सर के मरीजों को आराम मिलता है।

अल्सर के मरीजों के लिए गाय के दूध से बने घी का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है।

गाय के दूध में एक चम्मच हल्दी डाल कर नित्य पीने से 3 से 6 महीने में कैसा भी अलसर हो, सही होते देखा गया हैं।

अल्सर के मरीजों को बादाम का सेवन करना चाहिए, बादाम पीसकर इसका दूध बना लीजिए, इसे सुबह-शाम पीने से अल्सर ठीक हो जाता है।

सहजन (ड्रम स्टिक) के पत्ते को पीसकर दही के साथ पेस्ट बनाकर लें। इस पेस्ट का सेवन दिन में एक बार करने से अल्सर में फायदा होता है।

आंतों का अल्सर होने पर हींग को पानी में मिलाकर(हींगवाला पानी पीने के फायदे) इसका एनीमा देना चाहिये, इसके साथ ही रोगी को आसानी से पचने वाला खाना चाहिए।
अल्सर होने पर एक पाव ठंडे दूध में उतनी ही मात्रा में पानी मिलाकर देना चाहिए, इससे कुछ दिनों में आराम मिल जायेगा।

और ये भी पढ़े:- प्रोस्टेट क्या है, लक्षण और इसके बारे में कुछ जानकारी

छाछ की पतली कढ़ी बनाकर रोगी को रोजाना देनी चाहिये, अल्सर में मक्की की रोटी और कढ़ी खानी चाहिए, यह बहुत आसानी से पच जाती है।

कच्चे केले की सब्जी बनाकर उसमें एक चुटकी हींग मिलाकर खाएं| यह अल्सर में बहुत फायदा करती है|bananas for ulcers

अत्यधिक रेशेदार ताजे फल और सब्जियों का सेवन करें जिससे कि अल्सर होने की सम्भावना कम की जा सके या उपस्थित अल्सर को ठीक किया जा सके।

मुलेठी बहुत गुणकारी औषधि है। मुलेठी के प्रयोग करने से न सिर्फ आमाशय के विकार बल्कि गैस्ट्रिक अल्सर के लिए फायदेमंद है। मुलेठी का चूर्ण ड्यूओडनल अल्सर के अपच, हाइपर एसिडिटी आदि पर लाभदायक प्रभाव डालता है। साथ ही अल्सर के घावों को भी तेजी से भरता है। यह मीठा होता है इसलिए इसे ज्येष्ठीमधु भी कहा जाता है। असली मुलेठी अंदर से पीली, रेशेदार एवं हल्की गंधवाली होती है। कोई भी समस्या न हो तो भी कभी-कभी मुलेठी का सेवन कर लेना चाहिए आँतों के अल्सर ,कैंसर का खतरा कम हो जाता है ।

पालक विभिन्न उदर रोगों में लाभ प्रद है| आमाशय के घाव छालेऔर आँतों के अल्सर में भी पालक का रस लाभ प्रद है| कच्चे पालक का रस आधा गिलास नित्य पीते रहने से कब्ज- नाश होता है| पायरिया रोग में कच्ची पालक खूब चबाकर खाना और पत्ते का रस पीना हितकर है

नारियल पानी(coconut milk for ulcer) बहुत बढ़िया हैं, आप इसको निरंतर हर रोज़ पीजिये।

सुबह खाली पेट तुलसी के 5 पत्ते खाए।

गेंहू के जवारों का रस अमृत सामान हैं, अलसर के रोगियों के लिए। रोज़ सुबह इसका सेवन करे।

रात को सोने से पहले एक चम्मच अर्जुन की छाल को 250 मिली पानी में पकाये, इस में आधा चम्मच मुलेठी का चूर्ण भी डाल ले और आधा रहने पर इसको छान कर पी ले। ये 3 महीने तक करे।

और ये भी पढ़े:- जाने हार्ट अटैक आने के संकेत

अलसर के लिए विशेष चूर्ण

आंवला 100 ग्राम, मिश्री 500 ग्राम, सौंफ 100 ग्राम, मुलेठी 100 ग्राम, हरड़ 50 ग्राम, अजवायन 50 ग्राम, धनिया 50 ग्राम, जीरा 50 ग्राम, हींग 5 ग्राम। इन सब को मिक्स कर के एक चम्मच गाय के दूध से बनी हुयी दही की छाछ से नियमित सुबह और शाम को ले। 3 महीने निरंतर ले। आपको बहुत फायदा होगा।

मरीज को हर दो घंटे में कुछ न कुछ खाते रहना चाहिए।

और ये भी पढ़े:- टॉन्सिल में संक्रमण चिंता की बात

मरीज को इनसे परहेज करना चाहिए-Stomach ulcer diet menu

कॉफी और कार्बोनेटेड पेय पदार्थों की संख्या सीमित करें या पूर्णतयः समाप्त कर दें। इन सभी पेय पदार्थों का आमाशय की अम्लीयता में तथा अल्सर के लक्षणों को गम्भीर बनाने में सहभागिता होती है।

अपने अल्सर पूर्णतयः ठीक होने तक शराब के सेवन न करें।

मैदे से बनी हुयी किसी भी वास्तु का सेवन न करे, फ़ास्ट फ़ूड या जंक फ़ूड गलती से भी न खाए।

अल्सर के रोगी को ऐसा आहार देना चाहिये जिससे पित्त न बने, कब्ज और अजीर्ण न होने पाये। इसके अलावा अल्सर के रोगी को अत्यधिक रेशेदार ताजे फल और सब्जियों का सेवन करना चाहिए, जिससे अल्सर को जल्दी ठीक किया जा सके।

और ये भी पढ़े:- 

घुटनो के दर्द का घरेलु ईलाज(Knee Pain Home Remedy in Hindi)

Cancer: ये लक्षण गले में कैंसर का इशारा करते है ,रहे सतर्क

एडीएचडी (ADHD) क्या है और इसके लक्षण क्या है

प्रोस्टेट का घरेलु उपचार और परहेज

About admin

Check Also

घुटनो के दर्द का घरेलु ईलाज(Knee Pain Home Remedy in Hindi)

घुटनो के दर्द का घरेलु ईलाज(Knee Pain Home Remedy in Hindi)

घुटनो का दर्द तकलीफ देने वाला दर्द है वैसे यह गठिया रोग, ज्यादा उम्र होने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *