गोदुहासन

गोदुहासन क्‍या है?

गाय दुहने के समय की शारीरिक स्थति का अध्ययन करने के न इस आसन की रचना किये जाने के कारण ही इसका नाम “गोदुहासन” रखा गया है।

और ये भी पढ़े- चक्रासन कैसे करे और इसके क्या फायदे है?| chakrasana in Hindi

गोदुहासन के लाभ

  • पैरों की मांसंपेशियां,अस्थियां व अस्थिवन्धन मजबूत व स्वस्थ होते हैं।
  • पैरों के सन्धिवात के लिये लाभकारी आसन है।
  • कमरदर्द दूर कर, कमर का सन्तुलन बनाये रखने के लिये उत्तम आसन है।

और ये भी पढ़े- सुखासन कैसे करें | Sukhasana in Hindi

गोदुहासन करने का तरीका

घुटने मोड़कर इस प्रकार बैठिये कि मुड़े हुए घुटने छाती के पास आते हों। अब पैरों के पंजों पर शरीर को सन्तुलित करते हुए घुटने तनिक आगे को झुकाते हुए थोड़ा फैला लीजिये और एड़ियों को भूमि से उठाकर नितम्बों को सहारा दीजिये।

इस स्थिति में रहते हुए ही दोनों हाथों को अर्ड्धबन्द कर टूठी की तरह बांधकर तथा कोहनी के पृष्ठभाग को जमीन के समान्तर आगे बढ़ा, बारी-बारी से एक मुट्ठी में कसाव व दूसरी में शिथिलता लाइये। दो-तीन मिनट तक इस क्रिया को कीजिये।

और ये भी पढ़े- अष्टांग योग | Ashtanga Yoga in Hindi

विशेष

चित्रानुसार, दोनों पंजों को खड़ाकर एड़ियों पर नितम्ब रखकर तथा दोनों जांघों पर दोनों कोहनियों को खड़ा कर दूध दुहने की स्थिति बनाये। यह बहुत सरल आसन है, इसलिये सावधानी की आवश्यकता नहीं पड़ती।

और ये भी पढ़े-

भेक आसन क्या है | bhekasana

जाने शवासन की विधि और लाभ | Shavasana in Hindi

Add Comment