गिलोय के चमत्कारी फायदे

गिलोय के फायदे और स्वास्थ्य लाभ बहुत ही जबरदस्त है, और इसका एक मुख्य कारण यह भी है कि आज के समय में गिलोय एक लोकप्रिय जड़ी बूटी बन गई है क्योंकि इसका कारन ये है की गिलोय एक रोग प्रतिरक्षा के रूप में काम करता है। दूसरा कारन आजकल लोग COVID-19 महामारी के कारण इसका उपयोग बहुत अधिक कर रहे है।

आज हम इस लेख में गिलोय के फायदे के बारे में बताएँगे , गिलोय का उपयोग कैसे करना है, गिलोय आपकी त्वचा रोग में कैसे लाभ पहुंचाता है और गिलोय के नुकसान क्या हैं।

गिलोय के स्वास्थ्य फायदे इतने है कि इसे संस्कृत भाषा में अमरत्व की आयुर्वेदिक जड़ कहा जाता है।

गिलोय के उपयोग बहुउद्देशीय हैं आप पाउडर, कैप्सूल और रस के रूप में गिलोय का उपयोग कर सकते हैं। यदि आप गिलोय के लाभ पाना चाहते हैं ,तो आप गिलोय की जड़ का उपयोग कर सकते हैं। यह आश्चर्यजनक जड़ी बूटी है जो FDA – Food and Drug Administration द्वारा अनुमोदित है।

संस्कृत भाषा में जाते है तो “अमृत” के रूप में जाना जाता है। गिलोय स्वास्थ्य लाभ सीधे इसके अद्भुत औषधीय गुणों से जुड़ा हुआ है।

आप गिलोय का फायदे कैप्सूल और अन्य रूप में प्राप्त कर सकते हैं लेकिन पारंपरिक काढ़े (कड़ा) तैयार करने के लिए आप गिलोय की जड़ों का उपयोग भी कर सकते हैं।

ये भी पढ़े:- अमरूद खाने के 6 चमत्कारी फायदे

गिलोय के 8 फायदे

1. गिलोय का उपयोग रोग प्रतिरोधक क्षमता में | Giloy helps to boost immunity

गिलोय में रोग प्रतिरोधक क्षमता में मदद करता है। चिकित्सा विशेषज्ञ के अनुसार गिलोय के कई फायदे हैं लेकिन सबसे आश्चर्यजनक फायदा यह है कि गिलोय आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देने में मदद करता है।

गिलोय रक्त को शुद्ध करने, जीवाणुओं से लड़ने, विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में फायदेमंद है। गिलोय जड़ी बूटी भी लिवर की बीमारियों, और मूत्र मार्ग के संक्रमण और दिल से संबंधित समस्याओं को ठीक करने में मदद करती है।

ये भी पढ़े:- जानें सेंधा नमक के ये फायदे और नुकसान

2. गिलोय पाचन के लिए | Giloy benefits digestion

गिलोय पाचन में फायदेमंद है। गिलोय आपके पाचन तंत्र को लाभ पहुंचाता है जो आपके पाचन तंत्र को ठीक करने में मदद कर सकता है, इसलिए आपके पाचन में सुधार होता है।

यदि आपके पास पाचन से जुडी कोई समस्या नहीं है और आपका पाचन तंत्र अच्छे स्तर पर काम कर रहा है, तो आधी समस्या स्वाभाविक रूप से हल हो जाती है।

जब गिलोय के उपयोग करने की बात आये तो , तो आप गिलोय पाउडर का आधा ग्राम ले सकते हैं और इसे आंवला या गुड़ के साथ ले सकते हैं, इससे आपको कब्ज से छुटकारा मिलेगा।

3. श्वसन संबंधी समस्याओं के लिए | Combat respiratory problems

गिलोय के स्वास्थ्य लाभों में कुछ anti-inflammatory गुण शामिल होते हैं जो सर्दी, खांसी और टॉन्सिल जैसे श्वसन संबंधी रोगो को ठीक करने में सहायक हो सकते हैं।

4. बुखार के इलाज में | Treats Chronic Fever

जिनको बुखार है, तो उन्हें गिलोय से बना काढ़ा फायदेमंद होता है। गिलोय बार बार होने वाली बुखार को भी ठीक करने में मदद करता है। गिलोय में पाए जाने वाले एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मलेरिया, डेंगू और स्वाइन फ्लू को ठीक करने में मदद करता हैं।

5. दमा या अस्थमा रोग में |  Reduces asthmatic symptoms

यदि कोई व्यक्ति अस्थमा से पीड़ित है, तो गिलोय फायदेमंद हो सकती है। यदि किसी में अस्थमा के लक्षण दिखाई देते हैं जैसे खांसी, सीने में जकड़न, घरघराहट और सांस की तकलीफ तो वो लोग गिलोय की जड़ को चबा सकते हैं या आप गिलोय का रस भी पी सकते हैं।

6. चिंता और तनाव में | Giloy fight anxiety and stress 

गिलोय आपके सिस्टम को टोक्सिन रहित करता है और आपके शरीर के स्वस्थ रखने में मदद करता है। गिलोय एक ऐसी जड़ी बूटी है जो चिंता और मानसिक तनाव को कम करने मदद करता है। गिलोय आपको शांत करने और आपकी याददाश्त को बढ़ाने में भी मदद करता है।

7. त्वचा रोगो में | Giloy for skin problem

गिलोय में एंटी-एजिंग गुण होते हैं जो त्वचा की समस्या जैसे पिंपल्स, काले धब्बे को ठीक करने में मदद करते हैं। साथ ही झुर्रियों को भी कम करने में मदद करता हैं।

8. गठिया रोग में | Giloy helps to treat arthritis

गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो गठिया के इलाज में मददगार हो सकते हैं । यदि कोई जोड़ों के दर्द से पीड़ित हैं तो वो गिलोय के लिए एक सरल घरेलू उपाय का उपयोग कर सकते हैं, दूध के साथ गिलोय पाउडर (गिलोय के तने से बना हुआ) मिलाएं और इस दूध को उबालें और फिर इसका सेवन करें यह उनके लिए फायदेमंद होगा।

इसके अलावा, यदि आप गठिया रोग से पीड़ित हैं, तो आप इस पेय में थोड़ी सी अदरक भी मिला सकते हैं।

अब, गिलोय के लाभों को जानने के बाद, गिलोय के प्रभावों को जानना भी आवश्यक है। क्योंकि जब गिलोय को इसकी आवश्यकता से अधिक लिया जाता है तो इसके दुष्प्रभाव भी हो सकते है।

ये भी पढ़े:- अजवाइन के फायदे | Ajwain Benefits in Hindi

गिलोय के दुष्प्रभाव | Side Effects of Giloy

गिलोय का पहला दुष्प्रभाव , गिलोय आपके शुगर लेवल या स्तर को कम कर सकता है।

गिलोय का दूसरा साइड-इफ़ेक्ट , यदि कोई व्यक्ति मधुमेह की समस्या से पीड़ित है और आप इसके लिए दवाएँ ले रहे हैं, तो उसके साथ-साथ आप गिलोय का सेवन करेंगे तो इससे आपको हाइपोग्लाइकेमिया हो सकता है। हाइपोग्लाइकेमिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपका शुगर का स्तर कम हो जाता है।

गिलोय का तीसरा साइड-इफेक्ट कब्ज की समस्या को जन्म दे सकता है, हालांकि गिलोय आपके पाचन से संबंधित बीमारियों को ठीक करता है। लेकिन कभी-कभी, ओवरडोज से सूखी मल, कब्ज और आंतो में सक्रमण हो सकता है।

गिलोय का चौथा दुष्प्रभाव ये है की , गिलोय का उपयोग सीमित होना चाहिए क्योंकि इसके अधिक उपयोग से भी आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को अधिक उत्तेजित कर सकता है और आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता अधिक हो सकती है। इससे ऑटोइम्यून डिसऑर्डर जैसे रूमेटॉइड आर्थराइटिस (आरए), मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस), और ल्यूपस (सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस, एसएलई) की समस्या भी बढ़ जाती है।

पांचवां अगर आपका किसी प्रकार की सर्जरी या ऑपरेशन होने वाला हैं तो यह महत्वपूर्ण है कि आपका ब्लड शुगर लेवल नियंत्रण में हो। गिलोय जड़ी बूटी का सेवन करने से आपके ब्लड शुगर लेवल में उतार-चढ़ाव हो सकता है। जो आपके लिए सही नहीं है क्योंकि आपकी सर्जरी होने वाली है आपका ब्लड शुगर लेवल नियंत्रित रहना चाहिए।

हालांकि गिलोय के साइड-इफेक्ट के बारे में पता नहीं है, लेकिन गिलोय के साइड इफेक्ट्स को जानना जरूरी है। चिकित्सा विशेषज्ञ के अनुसार, गर्भावस्था के दौरान या गर्भधारण की अवधि के दौरान गिलोय का सेवन नहीं करना बेहतर है।

यदि आप गिलोय या किसी अन्य जड़ी बूटी का सेवन करने जा रहे हैं, तो किसी भी स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित होने या कुछ दवाएं लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना जरुरी है। यह आपको किसी भी दुष्प्रभाव और गंभीरता का सामना करने से रोकेगा।

ये भी पढ़े:- अंजीर खाने के फायदे | Anjeer Benefits in Hindi

गिलोय लेने का सही तरीका क्या है?

आप गिलोय का सेवन किसी भी रूप में कर सकते हैं जैसे पाउडर, जूस, या कैप्सूल। अगर आप केप्सूल का प्रयोग करते है तो पेकिंग पर दिए गए निर्देश के अनुसार, वयस्क प्रतिदिन 2 गोलियों का सेवन कर सकते हैं और 5 वर्ष की आयु तक के बच्चों को एक दिन में आधा कैप्सूल लेना चाहिए। अगर आप पाउडर के रूप में गिलोय का सेवन कर रहे हैं, तो एक दिन में आधा चम्मच पाउडर का सेवन ठीक है।

ये भी पढ़े

जानिए एप्सम सॉल्ट के फायदे

समुद्री नमक के फायदे | Sea Salt Benefits in Hindi

Add Comment