क्या आप तुलसी के इन 10 चमत्कारी फायदों के बारे में जानते हैं | Tulsi ke Fayde

benefits of tulsi in hindi (Tulsi ke Fayde)- वैसे तो ज्यादातर घरों में तुलसी(Tulasi) की पूजा की जाती है लेकिन पौराणिक महत्व(Fayde) के अलावा ये एक जानी-मानी औषधि भी है।आइये हम आप को बताते तुलसी(Tulasi) के फायदों के बारे में जेसे सर्दी-खांसी से लेकर कई छोटी-बड़ी बीमारियों में तुलसी(Tulasi) एक कारगर औषधि है। आयुर्वेद में तुलसी के पौधे के हर भाग को स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद(Benefits) बताया गया है। इसमें रोगाणुरोधी और इम्यूनो-मॉडुलेटरी गुण होते हैं uses of tulsi in hindi

तुलसी के उपयोग

जो मानव जीवन के लिए वरदान साबित होते हैं। आजकल यौन रोगों की दवाइयां बनाने में तुलसी खासतौर पर इस्तेमाल की जाती है। अगर आप भी तुलसी(Tulasi) के इन छोटे-छोटे पत्तों के चौंकाने वाले Benefits से अंजान हैं तो आज हम आपको Tulasi के पत्तों के इन चमत्कारिक फायदों के बारे में आपको बताते हैं। Tulsi ke Fayde

गेहू के ज्वारे का रस अनेक रोगो की दवा

Benefits of Tulsi in Hindi and Uses of Tulsi in Hindi

1– सर्दी, खांसी और हल्के बुखार में है रामबाण-

सर्दी, खांसी और हल्के बुखार में तुलसी(Tulsi ke Fayde) के पत्ते काफी लाभप्रद होते हैं। ये एंटीबायोटिक गुणों की खान होते हैं और बैक्टीरिया और वायरस से हमारी रक्षा करते हैं। तुलसी की पत्तियों को अदरक के साथ चबाने से खांसी-जुकाम से राहत मिलती है। तुलसी की पत्तियों को चाय में डालकर या काढ़ा बनाकर पीने से गले की खराश भी दूर होती है। अगर हल्का बुखार है तो तुलसी के पत्तों को मिश्री और काली मिर्च के साथ पानी में अच्छी तरह से उबालकर पीने से काफी आराम मिलता है।

सूखी खांसी,कुकुर खांसी रात में उठने वाली खांसी का इलाज

2- सिरदर्द को करे चुटकियों में दूर-

अपने निस्संक्रामक गुणों के कारण तुलसी के पत्ते सिरदर्द का एक प्राकृतिक उपाय है। तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से सिरदर्द में आराम मिलता है। तुलसी एक एंटी-कंजेस्टिव है जिसके कारण ये माइग्रेन दर्द को दूर करने में सहायता करता है। ये साइनस के कारण होने वाले सिरदर्द के लिए भी विशेष रूप से प्रभावी है।

सर दर्द को नहीं करे नजरअंदाज !

3- सांसों की दुर्गन्ध को करे दूर-

तुलसी सांसों की दुर्गन्ध और श्वांस सम्बन्धी शिकायतों को दूर करने में भी काफी फायदेमंद होते हैं। मुंह से बदबू आने पर तुलसी के कुछ पत्तों को चबा लें। ऐसा करने से मुंह की बदबू चली जाएगी। शहद, अदरक और तुलसी को मिलाकर काढ़ा बनाकर पीने से ब्रोंकाइटिस, दमा, कफ और सर्दी में भी राहत मिलती है।

अजवाइन है गुणों का खजाना,जानिए इसके 10 फायदे

4- उल्टी और दस्त को भगाए दूर-

तुलसी के पत्तों को छोटी इलायची और अदरक के रस के साथ समान मात्रा में मिलाकर पीने से उल्टी से छुटकारा मिलता है। दस्त होने पर तुलसी के पत्तों को भुने जीरे के साथ मिलाकर पीस लें और इसको शहद के साथ दिन में 3-4 बार लें। ऐसा करने से दस्त की समस्या में काफी आराम मिलेगा।

अंजीर खाने के फायदे(Anjeer Benefits in Hindi)

5- आँखों के लिए है बहुत लाभदायक-

आँखों के लिए तुलसी के रस को बहुत ही महत्वपूर्ण और लाभदायक औषधि माना जाता है। आँखों की जलन में भी तुलसी का अर्क बहुत कारगर साबित होता है। तुलसी के पत्तों का रस निकालकर इसकी दो बूंद प्रत्येक आँख में डालने से आंखों में होने वाली रतौंधी बीमारी दूर होती है। साथ ही इससे आँखों का पीलापन कम होता है और आँखों की रोशनी में भी इजाफा करता है।

नींद पूरी नहीं लेने की वजह से हो सकता है नुकसान

6- अनियमित पीरियड्स की समस्याओं को करे दूर-

ज्यादातर महिलाओं को पीरियड्स में अनियमितता की शिकायत हो जाती है। ऐसे में तुलसी के बीज का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है। तुलसी के बीज खाने से पीरियड्स में अनियमितता की शिकायत दूर हो जाती है।

7- दाँतों के लिए भी काफी महत्वपूर्ण-

तुलसी के पत्ते दाँतों की देखभाल भी करते हैं और इनके उपयोग से दाँतों के दर्द में भी आराम मिलता है। इसकी पत्तियों को सुखाकर इसके चूर्ण से दांत साफ करने से दांत संबंधी कई बीमारियों से राहत मिलती है।

Ajwain ke Fayde: अजवाइन है गुणों का खजाना, जानिए इसके फायदे

8- कील-मुहांसे भगाये और चेहरे को चमकाए-

त्वचा संबंधी रोगों में तुलसी खासकर फायदेमंद है। तुलसी बैक्टीरिया और संक्रमण को मारती है और रक्त को शुद्ध करती है जिससे कील-मुहांसे खत्म हो जाते हैं और चेहरा साफ होता है। साथ ही इसके रस से दाद व त्वचा संबंधी रोग भी ठीक किए जा सकते हैं।

पुरषों की स्वस्थ त्वचा के लिए घरेलु नुस्खे

9- दिलाये पथरी से राहत और किडनी को रखे स्वस्थ-

पथरी या किडनी स्टोन्स से निजात पाने के लिए तुलसी बहुत ही उपयोगी है। यह आपकी किडनी को स्वस्थ रखता है और पथरी बनने से रोकता है। किडनी की पथरी में तुलसी की पत्तियों को उबालकर इसका अर्क बना लें। इस अर्क को शहद के साथ नियमित 3 से 5 महीने तक सेवन करें। ये पथरी को निकालने में काफी कारगर साबित हो सकता है।

10-मधुमेह से निजात दिलाये-

तुलसी के पत्ते मधुमेह के रोगियों के लिए भी काफी फायदेमंद होते हैं। इनमें रक्त शर्करा यानी कि ब्लड ग्लूकोज का स्तर नियंत्रित करने की क्षमता है। इसीलिए इसके सेवन से हमारे शरीर में ब्लड ग्लूकोज का स्तर कम किया जा सकता है।

गूलर के गुण और उससे होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

आंवले का उपयोग

Add Comment