डेंगू बुखार के लक्षण कारण और इससे बचने के घरेलू उपचार

डेंगू बुखार के लक्षण कारण और इससे बचने के घरेलू उपचार- डेंगू बुखार डेंगू बुखार के से भारत में हर साल कई लोगों को अस्पताल पहुँचाता है तो कई लोगों की इससे मौत हो जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार डेंगू की बीमारी से दुनिया में हर साल 5 करोड़ व्यक्ति संक्रमित होते हैं। यह उन बड़े शहरों में अधिक फैलता है, जहाँ घनी आबादी रहती है और पानी के निकास की सही व्यवस्था नहीं है। डेंगू बुखार मच्छरों द्वारा फैलाई जाने वाली बीमारी है। मादा एडीज इजिप्टी मच्छर जब किसी को काटता है तो यह वायरस मच्छर की लार के साथ शरीर में प्रवेश कर जाता है।

क्या आप तुलसी के इन 10 चमत्कारी फायदों के बारे में जानते हैं | Tulsi ke Fayde

बहुत से लोग अनजाने में डेंगू बुखार के लक्षण पहचानने में काफी देरी कर देते हैं जिसकी वजह से यह बुखार काफी तेजी से मरीज को अपनी चपेट में ले लेता है। तो आइये आज हम आपको बताते हैं कि डेंगू बुखार क्या होता है, ये कैसे फैलता है, इसके लक्षण क्या हैं और इस जानलेवा रोग से कैसे बचा जा सकता है।

कान का मोम (मैल) निकालने के घरेलू उपाय

जानें क्या होता है डेंगू बुखार-

डेंगू बुखार एक वायरस से होने वाली बीमारी है जो एडीज इजिप्टी मच्छरों के काटने से होती है। एडीज इजिप्टी मच्छरों के काटने पर विषाणु तेजी से मरीज के शरीर में अपना असर दिखाते हैं जिसके कारण तेज बुखार और सर दर्द होने लगता है। वायरस के मरीज के खून में पहुँचते ही खून में प्लेटलेट्स की संख्या तेजी से घटने लगती है। यह एक ऐसी खतरनाक बीमारी है कि यदि इसका तुरंत इलाज ना किया जाये तो रोगी की जान भी जा सकती है। इसीलिए इसे हड्डी तोड़ बुखार भी कहा जाता है।

सूखी खांसी,कुकुर खांसी रात में उठने वाली खांसी का इलाज

जानें कैसे फैलता है डेंगू बुखार-

वैसे तो गर्मी और बारिश के मौसम में यह बीमारी तेजी से पनपती है लेकिन बरसात के मौसम में ही डेंगू के सबसे ज्यादा मामले सामने आते हैं। डेंगू के मच्छर हमेशा साफ पानी जैसे छत पर लगी पानी की टंकियों, घड़ों और बाल्टियों में जमा पीने का पानी, कूलर के पानी, गमलो में जमा पानी आदि में पनपते हैं और ये हमेशा दिन में ही काटते हैं। डेंगू कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्तियों को आसानी से हो जाता है।

जानें गठिया के दर्द से तुरंत राहत का नुस्खा

जानें क्या होते हैं डेंगू बुखार के लक्षण-

डेंगू बुखार के लक्षण मच्छर के काटने के बाद 8 से 10 दिन बाद दिखते हैं। शुरू के दो दिनों तक अधिक सिरदर्द व कमजोरी रहती है और चक्कर आते हैं। कई लोगों में चक्कर आने से बेहोशी भी देखी गई है। शरीर में तो दर्द होता है, लेकिन पीठ, कमर और जोड़ों में अधिक दर्द होता है। आँखों के चारों ओर की हड्डियों में भी तेज दर्द होता है, यहाँ तक कि नजर इधर-उधर चलाने में भी कष्ट होता है।

प्रोस्टेट का घरेलु उपचार और परहेज

डेंगू बुखार के कुछ मुख्य लक्षण इस प्रकार हैं-

  • तेज ठंड लगकर बुखार आना।
  • सरदर्द और आँखों में दर्द होना।
  • पीठ, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना।
  • शरीर में लाल निशान, दाने, चकते और खुजली होना।
  • अत्यधिक कमजोरी लगना और भूख कम लगना।
  • जी मचलाना, उल्टी और दस्त होना।
  • ज्यादा गंभीर स्थिति में आंख, नाक से खून आना।

Home Remedy for ulcer: अल्सर का घरेलु उपचार

जानें डेंगू बुखार से बचने के उपचार-

डेंगू से बचने के लिए एडीज मच्छरों से बचना जरूरी है। साथ ही इनको पनपने से भी रोकना है। रुके हुए पानी, यहाँ तक कि कूलरों की टंकियों के पानी को निकल देना चाहिए। साथ ही गंदगी और गड्ढों के पानी, कीचड़ इत्यादि को भी निकाल देना चाहिए ताकि इनमें मच्छरों की पैदाइश को रोका जा सके। कीटनाशकों का छिड़काव और फांगिग भी मच्छरों पर नियंत्रण रखती है। इससे तीन महीने तक पानी में लार्वा उत्पन्न नहीं होते हैं।

जाने कमर दर्द होने के मुख्य कारण

डेंगू बुखार से बचने के उपचार और कुछ अन्य सावधानियां-

  • घर में और घर के आसपास पानी जमा ना होने दें।
  • कूलर का पानी प्रतिदिन बदलें।
  • टायरों, गमलों आदि में पानी जमा ना होने दें।
  • किसी भी प्रकार के पानी के बर्तन को ढ़क कर रखें।
  • डेंगू का मच्छर दिन के समय काटता है इसलिए हमेशा शरीर को पूरी तरह ढ़कने वाले कपड़े पहनें।
  • सोते समय मच्छरदानी और मच्छर भगाने वाले अन्य साधनों का प्रयोग करें।
  • खिड़कियों और दरवाजों में जाली लगवायें।
  • जितना ज्यादा हो सके उतना इस मौसम में घर की खिडकियों को बंद करके रखें।
  • किचिन और वाशरूम को सूखा रखें।
  • कूड़े के डिब्बे में ज्यादा दिनों तक कूड़ा जमा ना होनें दे।
  • घर में और आसपास मच्छर मारने वाली दवा का छिड़काव करवायें या नीम की पत्तियों का धुँआ फैलायें।
  • अधिक बुखार व गंभीर स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरुर लें।

साइनस का घरेलु उपचार

स्वस्थ रहने के लिए इन बातो पर जरूर ध्यान दे

Add Comment