Breaking News
Home / Food and Drink / जानें बहुत ज्यादा ठंडा पानी पीने से होने वाले नुकसानों के बारे में
side-effects-of-drinking-cold-water-in-hindi

जानें बहुत ज्यादा ठंडा पानी पीने से होने वाले नुकसानों के बारे में

पानी पीने के फायदों(pani peene ke fayde) के बारे में तो सब जानते हैं लेकिन बहुत ज्यादा ठंडा पानी(Thanda Pani) पीने से शरीर को कई नुकसान होते हैं, ठंडा पानी पीने के नुकसान

जानें कब है पानी पीने का सही समय, सही तरीके और इससे होने वाले लाभ(Pani Pine ke Fayde)

आइये ठंडा पानी से होने वाले नुकसानों के बारे में बताते हैं- Thanda Pani| cold water side effects in hindi

ज्यादा ठंडा पानी(Thanda Pani) शरीर के मल को जमा देता है। इससे पाइल्स और आंत के रोग होने का खतरा बना रहता है। इसलिए ज्यादा ठंडा पानी हमें गर्मियों में नहीं पीना चाहिए।

अधिक ठंडा पानी(Thanda Pani) पीने से शरीर की कैलोरीज़ ज्यादा बर्न होती है और पाचन शक्ति बाधित होती है। ठंडा पानी पीने के बाद शरीर को खाना पचाने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ती है। बहुत ज्यादा ठंडा पानी पचने में बहुत अधिक वक्त लेता है। इसके परिणामस्वरूप भूख लगने की प्रक्रिया प्रभावित होती है।

पानी पीने का भी तरीका होता है जरूर पढ़े!

ठंडा पानी(Thanda Pani) पीने से शरीर की रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं। रक्त वाहिकाओं के सिकुड़ जाने से पाचन की प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है। जिससे भोजन की पाचन क्रिया सही तरह से नहीं हो पाती है। पानी के पाचन से पूर्व शरीर की आंतरिक क्रियाएं उस पानी को शरीर के तापमान के बराबर लाती है और उसके बाद उसका पाचन होता है। इससे पोषण मिलने में भी काफी वक्त लग जाता है। और धमनियों पर असर पड़ता है और वो संकुचित हो जाती हैं, जो कि ठीक नहीं है।

हर बार बहुत अधिक ठंडा या बर्फ वाला पानी पीने से रोग प्रतिरक्षा प्रणाली पर भी बुरा असर पड़ता है, जिसकी वजह से ऐसा पानी पीने वालों को हमेशा ही सर्दी और जुकाम जैसी समस्याएं बनी रहती हैं।
बर्फ़ का पानी या ठंडा पानी(Thanda Pani) पीने से आपके हृदय पर बुरा असर पड़ता है और उसकी गति कम हो जाती है।

About admin

Check Also

Health Benefits of Neem Indian Lilac

Benefits of Neem Indian Lilac

Benefits of Neem Indian Lilac – A very fast-growing tree that can reach fifty to sixty …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *