ताड़ासन योग | Tadasana in Hindi | Yoga Benefits

आज हम ऐसे आसन के बारे में बात जिससे आप सेहतमंद रह सकते है। तो चलो इस लेख में जानते हैं कि ताड़ासन योग क्या है, इसकी विधि, और इसके फायदें।Tadasana Benefits in Hindi हैं ?

ताड़ासन क्या है? | Tadasana in Hindi

इस आसन में शरीर की स्थिति ताड़ के वृक्ष के समान नजर आती है, अतः इसे ताड़ासन कहते हैं। शरीर की लंबाई को बढ़ाने के लिए यह आसन बहुत सहायक सिद्ध होता है।

चक्रासन कैसे करे और इसके क्या फायदे है?| chakrasana in Hindi

ताड़ासन योग करने का तरीका : Tadasana Steps in Hindi

विधि 1

यह आसन सरल है। इसमें दोनों पांवों के पंजों, एड़ी तथा घुटनों को परस्पर सटाकर सावधान स्थिति में खड़े हो जाएं। दोनों हाथों को उठाते हुए केवल पैर के पंजों के सहारे, ऊपर उठने का प्रयास करें।

हाथों की अंगुलियों को आपस में गूंथकर तथा सिर को ऊंचा उठाकर । को देखें और शरीर को ऊपर की ओर खींचें। पूरे शरीर का भार केवल पंजों पर ही रहना चाहिए। दो मिनट तक इस स्थिति के बाद, पूर्व सामान्य स्थिति में आ जाएं।

विधि 2

सीधे लेट जाएं | दोनों हाथों को सिर से ऊपर समानांतर ले जाएं। शरीर को पूरी तरह भूमि के साथ रखते हुए हाथों को ऊपर की ओर और पांवों को नीचे की ओर पूरी तरह श्वास भरकर खींचें | दोनों टागें व पैर मिले रहें । श्वास छोड़ते हुए ढीला छोड़ें। ऐसा दो-तीन बार करें।

उत्थित पद्मासन | Utthita Padmasana

विशेष

कुछ ताड़ासन की क्रिया में दोनों पंजों को मिलाकर सीधे खड़े हो जाते हैं तथा दोनों हाथों को ऊपर की ओर सीधा ले जाकर अलग-अलग तान देते हैं। पंजों तथा एड़ियों को भूमि पर ही जमाए रखते हैं। परन्तु इसकी अपेक्षा पूर्व वर्णित विधि ही अधिक लाभकारी है।

प्रातः तीन-चार गिलास ठण्डा पानी पीकर ताड़ासन की स्थिति में एक हजार कदम घूमने से कब्ज दूर होता- है तथा शौच साफ आता है। शीर्षासन के बाद इस आसन को करने से शरीर की थकान दूर हो जाती है। इसे स्त्री-पुरुष सभी कर सकते हैं।

अर्द्धमत्स्येन्द्रासन | Ardh Matsyendrasana in Hindi

ताड़ासन के रोग, निदान और लाभ :  Tadasana Benefits in Hindi

  1. इस आसन के अभ्यास से शरीर की लम्बाई, शक्ति तथा आयु में वृद्धि होती है। छाती का विस्तार बढ़ता है।
  2. फेफड़े पुष्ट एवं सक्रिय बने रहते हैं। सुस्ती, आलस्य तथा तन्द्रा दूर होती है। शरीर सुडौल एवं सुन्दर बनता है।
  3. पाचन शक्ति तीव्र होती है।
  4. इस आसन से मेरूदण्ड फैलता है।
  5. जिनके मेरुदंड में चलते हुए आगे की ओर झुकाव रहता है, उस झुकाव को ठीक करने के लिए यह आसन बहुत लाभदायक है।
  6. नाभि (धरन) को अपने स्थान पर लाता है।
  7. शरीर के तनाव को दूरकर शरीर को शिथिल करता है |
  8. रक्त संचालन में तेजी लाता है,स्नायुमंडल को सक्रिय कर शरीर को स्वस्थ रखने में सहायता देता है।
  9. यह आसन कमर दर्द, श्याटिका तथा सर्वाइकल स्पोन्डेलाईटस के लिए लाभकारी है।

ताड़ासन करने का समय

एक बार ताड़ासन मुद्रा अपनाने के बाद, पूर्व स्थिति में आकर इस आसन को पांच बार दोहरा देना काफी है।

अगर यह लेख ताड़ासन कैसे करे | Tadasan in hindi आपको पसंद आया तो इसे शेयर जरूर करे और  कमेन्ट्स करके भी बताये।

Meditation in Hindi | ध्यान साधना कैसे करे

वज्रासन योग के लाभ और विधि | Vajrasana in Hindi

Add Comment