अजवाइन है गुणों का खजाना, जानिए इसके फायदे | Ajwain ke Fayde

Ajwain ke Fayde-किचन में अजवाइन एक प्रमुख मसाले के रूप में होता है। ये स्वाद में तीखी होती है और गरम व पित्तवर्धक होती है। अजवाइन स्वाद ही नहीं जबकि आपका हाजमा भी ठीक होता हैं। अजवाइन दिखने में भले ही छोटी है लेकिन ये पोषक तत्वों से भरपूर होती है जैसे इसमें कैल्शियम, फॉस्फोरस, आयरन, सोडियम व पोटैशियम जैसे पोषक तत्व होते हैं। इसके अलावा इसमें आहार फाइबर (11.9%), कार्बोहाइड्रेट (38.6%), टैनिन, ग्लाइकोसाइड, नमी (8.9%), प्रोटीन (15.4%), वसा (18.1%), सैपोनिन, फ्लावेन और निकोटीनिक एसिड युक्त खनिज पदार्थ (7.1%) शामिल हैं।

और ये भी पढ़े:-अंजीर खाने के फायदे(Anjeer Benefits in Hindi)

पेट के दर्द, ऐंठन, आंत्र गैस, अपच, उल्टी, उदर विस्तार, दस्त, ढीली मल, श्वास कष्ट और पेट में भारीपन जैसे रोगो के लिए यह एक सामान्य घरेलू उपाय है।तभी तो दादी-नानी के नुस्खों में भी अजवाइन हमेशा ही सर्वोपरि रही है। तो आइये जानें, अजवाइन के फायदे | Ajwain ke Fayde-

और ये भी पढ़े:-अश्वगंधा के बेहतरीन फायदे (ashwagandha Benefits in Hindi)

अजवाइन के फायदे | ajwain ke fayde | ajwain benefits in hindi

पेट दर्द के लिए

इसमें बहुत हल्के रूप में मादक गुण हैं; इसलिए, यह पेट में दर्द के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। अजवायन + छोटी मात्रा में नमक, जब गर्म पानी से घूंट लेना अपच और पेट दर्द के लिए काफी फायदेमंद है। अपच और एनोरेक्सिया से पीड़ित व्यक्ति, अजवाइन के बीज का 1 चम्मच भोजन के साथ ले सकते हैं।

अगर आपके पेट में किसी भी प्रकार का दर्द है, तो एक चम्मच अजवाइन और दो या तीन चुटकी नमक गुनगुने पानी के साथ ले।

ठंड के लिए

पुरानी और बार बार होने वाली ठंड के लिए, 15-20 दिनों के लिए 2 ग्राम की खुराक में अजवाईन के तले हुए बीज लेने की सलाह दी जाती है। सिर दर्द, माइग्रेन और जुकाम और खांसी के रोग में भी इसके बीज को पीसकर लेना फायदेमंद है । अजवाइन के बीजों को गुनगुने पानी के साथ चबाने से भी खांसी ठीक होती है।

अजवाइन का बफारा देने से बच्चों को सर्दी और जुकाम से छुटकारा मिलता है। सूखी खांसी से परेशान हों, तो अजवाइन को चबाने के बाद गर्म पानी पिएं। तेजपत्ते के साथ भी इसे सोने से पहले ले सकते हैं।

अस्थमा के लिए

अजवाइन के धुएँ का साँस लेना ब्रोन्कोडायलेटर के रूप में कार्य करता है और साँस लेने के तरीके को आसान बनाता है। अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति दिन में दो बार अजवाईन और गुड़ मिलकर 1 चम्मच का पेस्ट ले सकता है। यह मिश्रण अस्थमा के इलाज में सहायक है ।

एसिडिटी और अपच के लिए

अजवाईन के बीज में थाइमोल होता है, एक रासायनिक यौगिक है जो गैस्ट्रिक रस के स्राव में मदद करता है जो पाचन में सुधार करता है और पाचन संबंधी विकारों जैसे अपच और पेट फूलना का इलाज करता है।

ऐसिडिटी और अपच के रोगी को सुबह या भोजन के बाद गुनगुने पानी के साथ नमक और अजवाइन लेना चाहिए। 10-15 दिनों तक लेने से अच्छा परिणाम मिलता है।

और ये भी पढ़े:-गर्म पानी पीने के फायदे | Garam Pani Pine Ke Fayde

शराब की आदत 

शराब की लत से छुटकारा पाने के लिए, आधा kg अजवाईन का काढ़ा 400 मिलीलीटर पानी में बनाये और jab पानी आधा रह जाये तब छानकर बोतल में भरले। इस काढ़े को एक कप भोजन से पहले ले। शराब का अत्यधिक उपयोग करने वाले व्यक्तियों को पेट में तेज दर्द हो सकता है।

ऐसे रोगियों के लिए 1 चम्मच अजवाईन के बीज का सेवन गर्म पानी के साथ दिन में दो बार किया जा सकता है।

जुकाम के लिए

अजवाइन के बीज में थाइमोल एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुणों से भरा होता है, जो नाक बंद और सर्दी से राहत दिलाने में मदद करता है।

अजवाइन के बीजो को कूटकर पीस ले । इसे थोड़े से गुड़ के साथ मिलाएं और इस मिश्रण का हर दिन तीन बार सेवन करें।

बंद नाक में खोलने के लिए अजवाइन को कड़ाई में सेक कर एक कपड़े में बांध ले और सूंघे । बच्चो के अवरुद्ध नाक को राहत देने के लिए इसे अपने बच्चे के तकिये के पास रखें।

हृदय रोग में

अजवाईन के बीज में नियासिन और थायमोल होते हैं। दो आवश्यक यौगिक होते हैं जो आपके दिल को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। इसके चमत्कारी गुण तंत्रिका आवेगों को उत्तेजित करने में मदद करते हैं और हृदय में रक्त परिसंचरण में सुधार करते हैं।

दिल की बीमारी को अलविदा कहने के लिए रोज सुबह एक गिलास अजवाइन का पानी पिएं।

और ये भी पढ़े:-हार्ट अटैक से बचने के उपाय

गठिया रोगो में

अजवाईन के बीजों में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनेस्थेटिक गुण होते हैं जो गठिया से होने वाले दर्द को कम करने में मदद करते हैं। यह सूजन को कम करने में मदद करता है और त्वचा रोगों में सूजन के कारण होने वाली खुजली, लालिमा और दर्द को भी कम करता है।

एक मुट्ठी अजवाईन के बीजों को पीस कर पेस्ट बना ले, और इसे दिन में दो बार प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।

और ये भी पढ़े:- जानें गठिया के दर्द से तुरंत राहत का नुस्खा

अजवाइन के अन्य फायदे | ajwain ke fayde

ऊपर दिए गए फायदों के अतिरिक्त अजवाइन के अन्य फायदे भी है-

  • अगर वमन (उल्टी), अजीर्ण (अपच) और थकान हो तो देशी खांड में अजवाइन के तेल की 5-6 बूंदें डालकर खाये लाभ मिलेगा है।
  • दांतों में दर्द होने पर आप अजवाइन को पानी में डालकर कुछ देर उबालें। इस पानी से दिन में दो या तीन बार गरारा करें दांत के दर्द में आराम मिलेगा।
  • माइग्रेन से सिर में दर्द हो, तो अजवायन को पोटली में बांधकर बार-बार सूंघें।
  • आधा चम्मच शहद में 5-6 बूंद अजवाइन का तेल मिलाकर दिन में 3-4 बार चाटें। साथ ही गले की सूजन में अजवाइन का चूर्ण नमक मिले गुनगुने जल में घोल कर उससे गरारे करें लाभ होगा।
  • वायु विकार दूर करने के लिए आधा चम्मच अजवाइन में दो काली मिर्च और एक चुटकी खाने वाला सोडा मिलाकर पानी के साथ भोजन के बाद ले।
  • अजवाइन को गुड़ में मिलाकर सेवन करने से पित्त से छुटकारा मिलता है। प्रसूति स्त्रियों को अजवाइन व गुड़ मिलाकर देने से भूख बढ़ती है।
और ये भी पढ़े:-
जाने ग्रीन टी के फायदे और नुकसान

गेहू के ज्वारे का रस अनेक रोगो की दवा

पानी पीने का भी तरीका होता है जरूर पढ़े!

Add Comment