Home / योग / सिध्दासन: असानो में श्रेष्ठ आसन

सिध्दासन: असानो में श्रेष्ठ आसन

सिध्दासन क्या है:-

इस आसन में अधिक समय तक बैठकर सिद्धि प्राप्त की जाती है इसलिए इस आसान को सिध्दासन कहते है। ये आसन सबसे श्रेष्ठ आसन है।इस आसन में ज्ञानमुद्रा में बैठना चाहिए।

और ये भी पढ़े:-मन अशांत है तो करे पद्मासन

सिध्दासन की विधि:-

  1. सबसे पहले आप जमीन पर दरी या आसान बिछाकर बैठ जाये और पैरो को सामने दी तरफ फैलाकर बैठ जाये।
  2. आप अपनी बायीं वाले पैर को घुटनो से मोड़कर पैरो की एड़ी को गुदा तथा अंडकोष के मध्य कसकर सट्टा लीजिये। और इस पैर के तलुवे एवं पंजो को दायी जांघ से चिपका ले।
  3. अब आप अपनी दाए पैर को घुटनो से मोड़कर उसकी एड़ी को जननेन्द्रिय के ऊपर इस प्रकार से कसकर सटाये की जननेन्द्रियों पर दबाव नहीं पड़े। ध्यान रहे की इस पैर का पंजा बाये पैर की पिंडली एवं जंघा से मिला हुआ रहना चाहिए।
  4. ध्यान रहे की दोनों पैरो के टखनों की हड्डिया एक दूसरे पर हो। कमर, रीढ़ ग्रीवा आदि बिल्कुल सीधी रखे।
  5. हाथो को घुटनो पर रखें।

और ये भी पढ़े:-शीर्षासन की विधि और फायदे

इस आसन को करते समय ध्यान देने योग्य बाते:-

  • इस आसान में पालथी मारकर बैठा जाता है। बाए पैर को घुटने से मोड़कर एड़ी को गुदा अवं अंडकोष के बिच कसकर मिलाया जाता है।
  • ध्यान रहे की इस आसन को करते समय आपका मुँह उतर दिशा की और नहीं हो।
  • शुरू में इस करते दो मिनट तक ही ध्यान लगाये फिर धीरे धीरे समय बढ़ाये। शुरू में एक साथ न करे बाद में इसकी समयावधि बढ़ा ले।
    15 मिनट से ज्यादा इस आसान में बैठने के लिए त्राटक बिंदु को केंन्द्रित करने का कुशल अभ्यास आवश्यक है। सामान्य लोगो के लिए 15 मिनट से अधिक ध्यान लगाना उचित नहीं है मस्तिक की नसे विकृत हो सकती है।
  • इस योग के अभ्यास के दिनों में गर्म या उत्तेजक आहार पूर्ण रूप से वर्जित है। नमक भी काम खाना चाहिए।

सिध्दासन को करने का समय:-

इस आसन को शुरू में दो मिनट तक ही करना चाहिए। उसका अभ्यास हो जाये तो आप 15 मिनट तक कर सकते है। ध्यान रहे आप इसे 15 मिनट से अधिक ना करे।

रोग निदान और लाभ:-

  • इस आसान से ह्रदय रोग, स्वास रोग, यौन रोग और पाचन क्रिया की गड़बड़ी आदि ठीक हो जाती है।
  • सिध्दासन का वास्तविक लाभ मानसिक है। इस आसन में ध्यान लगाने से मानसिक शांति मिलती है।
  • ये आसन करने से आँखों की नजर तेज होती है।
  • सिध्दासन बवासीर को हद तक काबू कर सकता है।
  • ब्रह्मचर्य के पालन में सहायक है।
  • ये नाड़ियो के शुद्धिकरन में सहायक है।
  • इस आसन से दिमाग तेज होता है।

गोमुखासन क्या है- our health tips, भ्रूणासन करने की विधि और लाभ

कैसे करे मयूरासन, वज्रासन योग के लाभ और विधि

अनुलोम-विलोम प्राणायाम

About admin

Check Also

प्राणायाम के कुछ आवश्यक नियम और निर्देश

प्राणायाम की सफलता के लिए प्राणायाम करने वाले को हर तरह के नशीले पदार्थ जैसे- …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *