Home / योग / वज्रासन योग के लाभ और विधि

वज्रासन योग के लाभ और विधि

वज्रासन एक ऐसे प्रकार का आसान है जो हम खाना खाने के बाद भी कर सकते है और ये आसान कोई भी कर सकता है। वैसे वज्रासन का अर्थ होता है वज्र के समान मतलब वज्र का अर्थ मजबूत या कठोर ये हमारे शरीर के अंगो को मजबूती प्रदान करता है। यह आसन हमारे जांघ, घुटने और पैरो को मजबूत करता है इसके अलावा पाचन शक्ति बढ़ाने, शरीर के खून संचार को ठीक रखता है और अधिक खाना खाने के बाद यदि हमें बैचेनी हो तो हमें ये आसन करना चाहिए लाभ मिलेगा।

वज्रासन करने की विधि:-

  • ये आसन करने के लिए आप आसन(चटाई) बिछाकर बैठ जाये।
  • अपने पैरो को घुटने से मोड़कर एड़ियों पर बैठ जाये और आपके दोनों पैरो को अंगूठे मिले हुए हो।
  • दोनों हाथो की हथेलियों को कोहनी से सीधा करके घुटनो पर रखे।
  • हमारी कमर एकदम सीधी होनी चाहिए और नजर सामने हो।
  • जब हम वज्रासन की स्थिति में आजाये तब हमारे कंधे और कमर सीधे रहने चाहिए और हमें रिलेक्स महसूस करना चाहिए।
  • आंख बंद करके समान्य स्वास लेते रह और छोड़ते रहे।

ध्यान रहे ये आसन करते समय मुँह बंद रहे और नाक से ही स्वास ले। आप इसको पांच मिनट से लेकर आधे घंटे तक कर सकते हो ये आपकी क्षमता के अनुसार है।तुलसी के फायदे

वज्रासन के लिए सावधानी:-

  • जिनको एड़ियों में दर्द हो वो लोग ये आसन न करे।
  • कमर दर्द होने पर और कमजोरी या चक्कर आने पर ये आसन को नहीं करना चाहिए क्योंकि डॉक्टर को दिखाना चाहिए।
  • जिन लोगो ने एड़ी का, घुटने का और टखने का ऑपरेशन कराया हो उन्हें ये आसन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओ को भी ये आसान नहीं करना चाहिए।

अनुलोम विलोम प्राणायाम

About admin

Check Also

प्राणायाम के कुछ आवश्यक नियम और निर्देश

प्राणायाम की सफलता के लिए प्राणायाम करने वाले को हर तरह के नशीले पदार्थ जैसे- …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *