भ्रूणासन करने की विधि और लाभ

आसन करने की विधि :-

पीठ के बल सीधे लेट जाये। फिर दोनों पैरो को धीरे धीरे उठाकर सिर की और ले जाइये। सिर से निचे ऐड़ियो को तकियो के समान लगाइये।

इस क्रिया में पैरो की कैंची जैसी बन जाती है। अब दोनों हाथो को जांघो के बाहर की और से लाकर और नितम्बो को निचे लगाकर थोड़ा ऊपर उठाने की कोशिश कीजिये तथा अंगुलियों को आपस में गूँथ लीजिये।

READ:-मन अशांत है तो करे पद्मासन

READ:- गोमुखासन क्या है- our health tips

रोग निदान और लाभ:-

  • इस आसन के अभ्यास होने के बाद कुंडली जाग्रत होती है।

 

  • शरीर लचीला और सुन्दर बनता है और साथ में मन को अपर सुख प्राप्त होता है।

 

  • युवाओ के लिए आसान श्रेष्ठ है, किन्तु महिलाओ के लिए ये आसान कभी भी नहीं करना चाहिए।

READ:-शीर्षासन की विधि और फायदे

कैसे करे मयूरासन,

वज्रासन योग के लाभ और विधि

अनुलोम-विलोम प्राणायाम

योग क्या है- our health tips

 

About admin

Check Also

वृक्षासन | vrikshasana steps

वृक्षासन | vrikshasana steps

वृक्षासन दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है ‘वृक्ष’ और ‘आसन’ से लिया गया है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *