जाने गर्मी में गन्ने का रस पिने के क्या फायदे है

गर्मियों में गन्ने का रस पिने के फायदे और नुकसान दोनों जाने?

गर्मियों में तेज धुप रहती और इससे बचने के लिए लोग कई प्रकार के फलो के जूस पीते है। हर चीज के अलग अलग फायदे होते है और जो हमें पसंद हो वो ही हम पीते है। गर्मियों में गन्ने का रस हर लोग पीते है। अधिकतर लोग गन्ने के रस के फायदे और नुकसान के बारे में नहीं पता होता है। यह रस सेहत के साथ साथ कई बीमारियों से बचता है। यहाँ हम गन्ने से जुड़े फायदे और नुकसान के बारे में बात करेंगे।

वैसे गन्ने का रस हर कोई कभी ना कभी ना तो पीते है। ये गन्ने का रस और जूस से सस्ता होता है और गर्मी के मौसम ये रस सुकून देता है। हमारे यहाँ ये आसानी से मिलने वाला रस है और यहाँ इसकी पैदावार भी अच्छी होती है। गन्ने उत्पादन में विश्व में भारत का दूसरा स्थान है।

                                                                                                        पानी पीने का भी तरीका होता है जरूर पढ़े!

गन्ने के रस के फायदे:-

गन्ने के रास के बहुत फायदे है इसमें कैल्शियम, पोटेसियम, मेग्नेशियम, आयरन और फास्फोरस आदि पोषक तत्व उपस्थित होते है। ये रस हमारे जानलेवा बीमारियों कैंसर और मधुमेह के लिए फायदेमंद है।यह हड्डियों और दातो की समस्या को ठीक करता है और शरीर के खून के बहाव को भी व्यवस्थित रखता है।

ये रस हमारी सेहत के लिए बहुत अच्छा है और गुणकारी है। गन्ने का रस कई रोगो में लाभप्रद इसके फायदे जानकर हैरान हो जायेंगे। इसमें उपस्थित पोषक तत्व शरीर में कमजोरी नहीं आने देते है।

कैंसर:-

यह रस हमें कैंसर से बचता है और इस रस उपस्थित पोषक हमें कैंसर से लड़ने की शक्ति प्रदान करते है। प्रोटेस्ट और ब्रेस्ट कैंसर में भी इसे बहुत कारगर मन है।

डिहाइड्रेशन:-

डि‍हाइड्रेशन में गन्ने का रस पिने से हाड्रेड करने में मदद करता है। गर्मियों में यह समस्या ज्यादा होती है जिसमे ये रस बहुत लाभकर है। गर्मियों में ये रस पीना चाहिए।

ह्रदय रोग:-

गन्ने का रस कोलस्ट्रोल और ट्रीग्लिसरायड को काम करता है जिसकी वजह से धमनियों में फेट नहीं जमता दिल और शरीर के अंगो के बिच खून का बहाव अच्छा बना रहता है। इसलिए इस रस से दिल की बीमारियों से बचा जा सकता है।

तुलसी के उपयोग

पाचन क्रिया:-

गन्ने में पोटेशियम की मात्रा अधिक होने के कारण यह पाचन तंत्र के लिए बहुत लाभकारी है। यह कब्ज को ठीक करता और पेट के संक्रमण को रोकता है।

लिवर:-

यह रस लिवर को डेमेज होने से बचता है और बिलरुबिन का लेवल को ठीक रखता है। पीलिया रोगी के लिए फायदेमंद है इसलिए पीलिया के रोगी को गन्ने का रस पिने की सलाह दी जाती है।

मूत्र संक्रमण:-

ये जूस डाइयूटेरिक यानी मूत्रवर्धक होता है। यह शरीर में मूत्र संबंधी क्षेत्रों में संक्रमण होने से बचाता है। यह मूत्र संक्रमण को रोकता है।

 

गन्ने का रस तुरंत ऊर्जा प्रदान करने वाला होता है और ये ऊर्जावान होता है। संक्रमण से लड़ने के लिए मददगार होता है। फेब्रा‌इल डिसॉडर यानी प्रोटीन की कमी से बार-बार बुखार से बचाव के लिहाज से गन्ने का रस काफी फायदेमंद है। यह गुलकोज की मात्रा बढ़ाता है। गन्ने का रस से त्वचा में निखार आता है। यदि आप नियमित रूप से गन्ने का रस पीते है तो पेट की कई प्रकार की बीमारी ख़त्म हो जाती है।

                                                                                 टॉन्सिल में संक्रमण चिंता की बात

गन्ने के रस के नुकसान:-

  • हम जानते है की गन्ने के रस शक्कर का ही एक रूप है और ज्यादा पिने से मोटापा बढ़ाता है। इसमें मौजूद कैलोरीज वजन बढ़ाने में सहायक है। डयबिटीज के रोगिये को चिकत्सा परमर्श के अनुसार पीना चाहिए।
  • यदि गन्ने का रस बहुत देर का निकला हुआ है तो उसमे टोक्सिन जमा हो जाता है और ये खराब हो जाता है। उसे पीना नहीं चाहिए।
  • ध्यान रखे जिस मशीन से गन्ने का रस निकला जा रहा है उस पर गन्दगी ना हो। हो सकता है की उस मशीन से कुछ आयल निकलकर उस रस में गिर रहा हो। अत: इस बात का ध्यान रखे। और गन्ने का रस सफाई के साथ निकला हुआ हो।
  • विशेषज्ञ के अनुसार एक दिन में दो गिलास से ज्यादा गन्ने का रस नहीं पीना चाहिए। हमारे लिए एक दिन में दो गिलास की मात्रा सही है।

गेहू के ज्वारे का रस अनेक रोगो की दवा,  अजवाइन के फायदे

मोटापा कम के लिए क्या उपाय करे ?

दादी माँ के नुस्खे

About admin

Check Also

क्या आप तुलसी के इन 10 चमत्कारी फायदों के बारे में जानते हैं | Tulsi ke Fayde

benefits of tulsi in hindi (Tulsi ke Fayde)- वैसे तो ज्यादातर घरों में तुलसी(Tulasi) की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *