आंवले का उपयोग


आंवला के गुणों की तुलना किसी से नहीं की जा सकती है। इसमें कई गन पाए जाते है और हर घर में इसका उपयोग किया जाता है। आंवले का उपयोग आंवले का जूस के रूप में, आचार के रूप में और औषधि के लिए किया जाता है। देखा जाये तो आवला हमारे हर लिहाज से फायदेमंद है। आज इस लेख में बताएँगे की आंवले का उपयोग कैसे किया जाता है।

पालक का जूस पीने से मिलते हैं कई फायदे जानें

आंवले का उपयोग कैसे किया जाता है

भारतीय करौदा या आंवला निर्विवाद रूप से पोषक तत्वों का एक बिजलीघर है। आवश्यक खनिज और विटामिन जो इसमें शामिल हैं, न केवल हमारे शरीर की भलाई के लिए अभिन्न हैं, बल्कि कुछ सबसे आम और व्यापक बीमारियों को रोकने और प्रबंधित करने के लिए अपरिहार्य हैं। चाहे अचार, जाम, डिप्स या स्प्रेड की एक सरणी में कच्चा, रसदार, पाउडर या बस जोड़ा गया हो – आपके आहार में आंवला सहित सभी अच्छे तरीकों से अच्छे स्वास्थ्य में बदल जाता है।

आंवला विटामिन सी का उत्कृष्ट स्रोत है, इसलिए यह आपकी प्रतिरक्षा, चयापचय को बढ़ावा देने में मदद करता है और सर्दी और खांसी सहित वायरल और बैक्टीरियल बीमारियों को रोकता है।सकी पौष्टिक प्रोफ़ाइल भी पॉलीफेनोल्स की एक श्रृंखला के साथ मिलती है जो कैंसर कोशिकाओं के विकास के खिलाफ लड़ने के लिए जानी जाती हैं।

आयुर्वेद के अनुसार, आंवले का रस शरीर में सभी प्रक्रियाओं को संतुलित करने के लिए जाना जाता है और तीनों दोषों- वात, कफ, पित्त में संतुलन लाता है। फोर्टिस-एस्कॉर्ट्स अस्पताल की मुख्य नैदानिक ​​पोषण विशेषज्ञ डॉ। रूपाली दत्ता के अनुसार, “विटामिन सी एक प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट है, जिसका अर्थ है कि यह आपको मुक्त कणों के हानिकारक प्रभावों से बचाता है। यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में मदद करता है और इसकी आवश्यकता होती है।कोलेजन उत्पादन इसलिए आपकी त्वचा, बालों को स्वस्थ रखता है और प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करता है।”

आंवला जूस के कई स्वास्थ्य लाभ हैं, अगर इसे दैनिक आहार में शामिल किया जाए। आंवला को अपने आहार में शामिल करने के सबसे प्रभावी तरीकों में से एक यह है कि इसका रस निकालें और इसे रोजाना खाली पेट पानी के साथ लेना चाहिए। यह आपके सिस्टम को साफ करता है, पाचन में सहायक होता है, साफ त्वचा, स्वस्थ बाल और अच्छी दृष्टि बनाए रखने में मदद करता है। आंवले का रस एक कसैला हो सकता है, लेकिन गुणकारी स्वास्थ्य लाभ गुण का आनंद देता है जो आपके चेहरे के झुर्रियों को ठीक कर देगा ।

लौकी के जूस पीने के फायदे और इसे बनाने की विधि

आंवले का जूस :-

वैसे तो अवले का जूस बाजार में बना बनाया मिल जाता है पर इसे घर पर बनाना ज्यादा अच्छा रहता है। में आपको यहाँ पर आंवले का जूस बनाने का तरीका बता रहा जिससे आप घर आंवले का जूस बना सकते हो घर पर बनाया हुआ जूस ज्यादा गुणकारी और शुद होगा।

आंवले का जूस बनाने की विधि :-

आंवले का जूस बनाने के लिए सबसे पहले आंवले को अच्छे से धोकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें. ध्यान रहे कि आंवला काटते वक्त इसके बीज जरूर अलग निकाल दें।

अब इन कटे हुये आंवले के टुकड़ो को जूसर में दाल कर इनका जूस निकल ले। सूखे आंवले के टुकड़े पीसने के बजाय इन्हें थोडा तरल पदार्थ मिला कर आसानी से पीसा जा सकता है। थोड़ा पहले से निकाला हुआ आंवला जूस मिला देने से यह जल्दी और अच्छी तरह से पिस जायेंगे।

आवले के रस को किसी जार या बोतल में भर के फ्रीज़ में रख दे। आवला रस एक महीने तक फ्रीज़ में सुरक्षित रह सकता हैं और 1 किलो आवला में लगभग 600 मिली लीटिर जूस निकल जाता हैं।

जब भी आप आंवला जूस प्रयोग करना चाहें तो थोड़ा आंवला जूस को एक कप गरम पानी और 1-2 छोटी चम्मच शहद में मिलाईये. यदि आप शहद न लेना चाहें तो आंवला जूस को काला नमक मिलाकर भी पी सकते हैं।

अंगूर खाने से दूर होती हैं कई गंभीर बीमारियां, जानें अंगूर खाने के फायदे

अजवाइन के फायदे

Add Comment