Pawanmuktasana in Hindi | पवनमुक्तासन

पवनमुक्तासन | Pawanmuktasana in Hindi

शरीर में जहां भी वायु रुकती है, वहीं दर्द होने लगता है और रक्त संचार में रुकावट पड़ने लगती है, जिससे विकार शरीर में फैलने लगता है। वायु को शरीर से निकालने के लिए सरल तथा अति उत्तम आसन है पवनमुक्तासन(Pawanmuktasana in Hindi)। सूर्य नमस्कार | Surya Namaskar 12 Pose …

Read More »

शलभासन | Shalabhasana

शलभासन | Shalabhasana

शलभासन क्या है? Shalabhasana इस आसन में व्यक्ति के शरीर की स्थिति शलभ; अर्थात्‌ टिडूडी के समान हो जाती है, अतः इस आसन को ‘शलभासन’ कहते हैं। Bhujangasana in Hindi | भुजंगासन शलभासन की विधि पेट के बल लेट जाएं | एड़ियां मिला लें | पंजे लेटे हुए। चेहरे को …

Read More »

Bhujangasana in Hindi | भुजंगासन

Bhujangasana in Hindi | भुजंगासन

भुजंगासन(Bhujangasana in Hindi) पीछे की और झुकने वाला आसन है जिसे हठ योग के हिस्से के रूप में अभ्यास किया जाता है। भुजंगासन नाम संस्कृत के शब्द भुजंगा से लिया गया है जिसका अर्थ है सांप या कोबरा और आसन का अर्थ मुद्रा है। भुजंगासन में एक साथ सिर और धड़ …

Read More »

वृक्षासन | vrikshasana steps

वृक्षासन | vrikshasana steps

वृक्षासन दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है ‘वृक्ष’ और ‘आसन’ से लिया गया है। जहां ‘वृक्ष’ का अर्थ होता है पेड़ और ‘आसन’ का अर्थ है मुद्रा। यह वृक्षासन मुद्रा पौराणिक कथाओं में भी मिलता है और रामायण में तो इसका वास्तविक संदर्भ हैं। रावण ने शिव की तपस्या …

Read More »

Trikonasana in Hindi | त्रिकोणासन(त्रिकोण या कोणासन)

trikonasana in hindi

त्रिकोणासन(त्रिकोण या कोणासन) क्‍या है? Trikonasana in Hindi इस आसन को करते समय व्यक्ति के शरीर की मुद्रा त्रिकोण या कोन की तरह बन जाती है, अतः इसे “त्रिकोणासन(त्रिकोण आसन)” कहते हैं। यह आसन अन्य आसनो की तुलना में अलग है इसमें शरीर का संतुलन बनाने के लिए आँखों को …

Read More »

अर्द्धमस्येन्द्रासन | Ardh Matsyendrasana in Hindi

अर्द्धमस्येन्द्रासन क्या है? : Ardh Matsyendrasana in Hindi

अर्द्धमस्येन्द्रासन(Ardh Matsyendrasana in Hindi) क्या है?– इस आसन को गोरखनाथ के गुरु मत्स्येन्द्रासन(जिन्हें लोग मच्छेन्द्रनाथ भी कहते हैं) जिस आसन में समाधि लगाते थे उसे ‘मत्सयेन्द्रासन‘ कहते हैं। मत्स्येन्द्रासन एक दुष्कर आसन है, इसलिये इसे सरल करके इस रूप में परिवर्तित किया गया है। इसलिये इसे “अर्द्धमस्येन्द्रासन” कहा जाता है। …

Read More »