Home / योग / धनुरासन कैसे करें | Dhanurasana Benefits
धनुरासन कैसे करें | Dhanurasana Benefits

धनुरासन कैसे करें | Dhanurasana Benefits

धनुरासन कैसे करें | Dhanurasana Benefits– इस आसान में साधक शरीर की आकृति को तने हुए धनुष के आकार में बनाता है, इसलिए यह धनुरासन कहलाता है।

ये भी पढ़े:- आसनो से दूर करे कमर और पीठ का दर्द

रोग निदान और लाभ- Dhanurasana Benefits

  • यह आसान शरीर के जोड़ो को सक्रिय व पुष्ट बनाता है। पेट के सभी मांसपेशियों पर इसका सबल प्रभाव पड़ता है। मांसपेशियों की विकृतियों को दूर कर उदर रोगो को ठीक करने में मदद करता है।
  • पाचन शक्ति को तीव्र करता है या बढ़ाता है। यह पेट तथा नितम्ब की फालतू चर्बी को घटाता तथा मेरुदंड में लचीलापन लाकर पैर की पीड़ा तथा अन्य तकलीफो को दूर करता है।
  • इसके प्रभाव से छाती, फेफड़े तथा गर्दन पुष्ट व क्रियाशील बनाते है। महिलाओ के प्रजनन तंत्र तथा मासिक धर्म की गड़बड़ी को दूर करता है।

ये भी पढ़े:- प्राणायाम के कुछ आवश्यक नियम और निर्देश

धनुरासन करने का तरीका- How to do Dhanurasana

धनुरासन कैसे करें

धनुरासन करने का तरीका

  • इस आसन के लिए पेट के बल लेटकर दोनों हाथों को फैला दे, फिर पांवो को घुटनो पर से मोड़े, एड़ियों को नितम्ब प्रदेश से अधिक समीप लाये।
  • टखनों को हाथों द्वारा ढृढ़तापूर्वक पकड़ ले। घुटनो को सटाकर टखनों को एक-दुसरो एक अधिक समीप लाये और दाए अथवा बाये गाल को भूमि पर रख ले ।
  • स्वास को रोको रखकर अधिक प्रतीक्षा किये बिना अपने पावो को पीछे कको और झटका दे। एक साथ जोर न लगाकर नरम बने रहे।
  • दोनों टखनों तथा पांव के अंगूठो को दोनों हाथों से पकड़े हुए पांव को जितना ले जा सके सीधा पीछे की और ले जाये। स्वयं को स्थिर रखे।
  • बांहो तानी हुई रहनी चाहिए। इस प्रकार इस आसन से पेट पर दबाव पड़ेगा और आप धनुरासन की स्थति में आ जायेंगे।

ये भी पढ़े:-योग के कुछ नियम जाने कब करे और कब नहीं करे

विशेष-

इस आसन के साथ कुंभक भी किया जाता है तथा संतुलन बनाये रखकर आगे-पीछे लुढ़कने की क्रिया भी की जाती है। स्त्रियों के लिए विशेष उपयोगी है।

धनुरासन करने का समय

इसका पूर्ण धनुरासन मुद्रा में आने के बाद एक से तीन बार तक अभ्यास किया जा सकता है।

ये भी पढ़े:-

सिध्दासन: असानो में श्रेष्ठ आसन

भ्रूणासन करने की विधि और लाभ

मन अशांत है तो करे पद्मासन

गोमुखासन क्या है- our health tips

About admin

Check Also

बद्धपदमासन: विधि और फायदे

बद्धपदमासन क्या है :- बद्ध का अर्थ होता है बांधना। पदमासन की मुद्रा बनाकर हाथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *