त्रिफला चूर्ण के फायदे | Triphala Churn Benefits in Hindi

भारत आयुर्वेद की भूमि है, और लोग वास्तव में विभिन्न रोगो की स्थितियों के उपचार के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सया में विश्वास करते हैं। पुराने समय से, त्रिफला चूर्ण के फायदे विभिन्न स्वास्थ्य रोगों के इलाज में है। आधुनिक एलोपैथिक दवाओं का उपयोग करने में लोग अधिक जागरूक हो गए हैं।

धनिये का पानी पीने के फायदे

त्रिफला क्या है ? 

ये तीन अलग अलग फेलो के सूखे पावडर से बना है -आंवला, बहेड़ा और हरड़ इन तीनो का मिश्रण है इन तीनो फलो के बीज निकालकर चूर्ण बनाकर तीनो का समान मिश्रण बनाया जाता है ये बना हुआ मिश्रण ही त्रिफला है ।

त्रिफला के फायदे | Triphala Churn Benefits in Hindi

आयुर्वेद में त्रिफला चूर्ण को हमारे शरीर के लिए बहुत ही गुणकारी माना गया है। मुख्य रूप से लोग त्रिफला को कब्ज निवारक के रूप में ही जानते हैं. लेकिन इसके अलावा भी इसका सेवन करने के बहुत फायदे हैं। यदि आपको किसी भी प्रकार की पेट से संबंधी समस्या है तो आपके लिए त्रिफला चूर्ण का सेवन बहुत ही फायदे मंद हो सकता है। पेट के अलावा भी इसे खाने से कई रोगों में राहत मिलती है. चिकित्सकों की यह भी सलाह होती है कि त्रिफला का सेवन बिना चिकित्सीय परामर्श के नहीं करना चाहिए। कई बार त्रिफला की अधिक मात्रा नुकसान भी दे सकती है।

आंखों के लिए

त्रिफला आँखों के लिए एक चमत्कारी उपाय है , एक चम्मच त्रिफला चूर्ण रात को एक कटोरी पानी में भिगोकर रखें। सुबह कपड़े से छानकर उस पानी से आंखें धो लें। यह प्रयोग आंखों के लिए अत्यंत हितकर है। इसके उपयोग से आंखे साफ और आँखों से चश्मा भी उतर जाता है। आंखों की जलन, लालिमा आदि तकलीफें दूर होती हैं।

लंबे समय तक आखों की रोशनी को बढ़ाए रखने के लिए 10 ग्राम गाय के घी में एक चम्मच त्रिफला चूर्ण और पांच ग्राम शहद को मिलाकर सेवन करें ।

Eye Health Tips in Hindi | कैसे रखें अपनी आंखों को स्वस्थ

सिर दर्द के लिए 

त्रिफला का चूर्ण सर दर्द में भी फायदे मंद होता है इसके लिए आप त्रिफला, हल्दी, चिरायता, नीम के अंदर की छाल और गिलोय को मिला ले और इस मिश्रण को 1/2 लीटर पानी में उबाले। ध्यान रहे इसे 1/4 लीटर रहने तक उबालते रहें। अब इसे छानकर कुछ दिन तक सुबह व शाम के समय गुड़ या शक्कर के साथ सेवन करने से सिर दर्द कि समस्या दूर हो जाएगी ।

सिर दर्द को नहीं करे नजरअंदाज !

मुख की दुर्गंध

त्रिफला रात को पानी में भिगोकर रखें। इसे रात भर भिगो रहने दे। सुबह मंजन करने के बाद यह पानी मुंह में भरकर रखें। थोड़ी देर बाद निकाल दें। इससे दांत व मसूड़े वृद्धावस्था तक मजबूत रहते हैं। इससे अरुचि, मुख की दुर्गंध व मुंह के छाले नष्ट होते हैं।

पाचन को ठीक करे

यदि आप किसी भी प्रकार के पाचन संबंधी समस्याओं से परेशान हैं, तो इसके लिए आप त्रिफला का सेवन कर सकते हैं। चूर्ण न केवल पेट साफ करने मदद करता है जबकि लूज मोशन(दस्त) में भी मदद करता है।

यदि आप को पेट फूला हुआ या भारी लग रहा है, या आपको लूज मोशन(दस्त) है, तो आप इस चूर्ण का सेवन सुबह के समय पानी के साथ कर सकते हैं।

वजन घटाने में सहायक

अधिक वजन सबसे खतरनाक होता है और कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं की नींव भी है। यदि आप अपने वजन को कम रखने के आसान तरीकों की तलाश कर रहे हैं, तो त्रिफला चूर्ण इसके लिए उपयगो रहेगा है। त्रिफला चूर्ण लेने से शरीर में कोलेसीस्टोकिनिन का स्राव होता है। कोलेसीस्टोकिनिन एक हार्मोन है जो मस्तिष्क को जल्दी से संकेत देने में सहायक होता है कि पेट भरा हुआ है।

मोटापे से बचने के लिए आप इस चूर्ण का एक चम्मच दिन में तीन बार गर्म पानी के साथ ले सकते हैं। यह पेट की अतिरिक्त चर्बी को कम करने में भी मदद करता है।

तेजी से वजन बढ़ाने के आसान तरीके

चर्म रोग दूर करें

त्रिफला का चूर्ण चार्म रोगो में भी फायदा करता, चर्म रोग जैसे दाद, खाज, खुजली, फोड़े-फुन्सी की समस्या में सुबह-शाम 6 से 8 ग्राम त्रिफला चूर्ण खाने से फायदा होता है।

घाव भरने में

चूर्ण में एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, और इस प्रकार यह चूर्ण उपचार विभिन्न घावों को ठीक करने का काम करता है और घाव को जल्दी भर देता है।

रक्तचाप को नियंत्रित करने में

अनियमित रक्तचाप से कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि, नियमित रूप से त्रिफला का सेवन करने से आप रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित करने और इस प्रकार विभिन्न स्वास्थ्य परेशानियों को दूर करने में फायदेमंद है।

बालों के लिए

बालों के लिए त्रिफला चूर्ण बहुत लाभदायक हैं। यह बालों को बढ़ाने में मदद करता है। इसलिए, यदि आप अपने बालों के ना बढ़ने की समस्या से परेशान हैं, तो त्रिफला चूर्ण इसका समाधान हो सकता है।

आप या तो इसका उपयोग खाने के रूप में कर सकते हैं। या इस चूर्ण में थोड़ा पानी मिलाकर पेस्ट बना सकते हैं और फिर इसे अपने बालों पर लगा सकते हैं। दोनों ही ,तरीके से ये बालो के लिए फायदेमंद है।

बालों को झड़ने से कैसे बचाएं, अपनायें ये आसान उपाय

मधुमेह रोग में

यदि आप मधुमेह की समस्या से पीड़ित हैं, तो आप इसके लिए त्रिफला ले सकते हैं। यह एक मधुमेह रोगी के लिए अच्छा विकल्प है जो ब्लड में शुगर की मात्रा को ठीक करने में मदद कर सकता है। यह न केवल ब्लड शुगर(मधुमेह) को नियंत्रित करता है, बल्कि डायबिटीज के लेवल को कम करने में भी सहायक है। और इस प्रकार यह मधुमेह रोग के उपचार में सहायक है।

हृदय रोगो में

त्रिफला आपके दिल के लिए एक टॉनिक के रूप में कार्य करता है क्योंकि यह हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस चूर्ण के सेवन से आपके रक्त संचार में सुधार होता है। आपके कोलेस्ट्रॉल को ठीक करता है और आपका रक्तचाप नियंत्रित होता है। ये सभी हृदय को बेहतर बनाने में मदद करते हैं और इस प्रकार हृदय को स्वस्थ रखते हैं। इसलिए ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए आपको त्रिफला का उपयोग कर सकते है।

अगर आपके कोई रोग नहीं है तो भी आप त्रिफला के चूर्ण का उपयोग कर सकते है । त्रिफला को आधे ग्राम से पंद्रह ग्राम तक रोज सुबह दूध या पानी के साथ ले । इसे आप एक वर्ष तक ले तो किसी प्रकार की बीमारी आपको नहीं होगी ।

गर्म पानी पीने के चमत्कारी फायदे

क्या आप तुलसी के इन 10 चमत्कारी फायदों के बारे में जानते हैं | Tulsi ke Fayde

Add Comment